राजकोषीय घाटा 1.37 लाख करोड़ के स्तर पर

Jun 01 2016 12:41 PM
राजकोषीय घाटा 1.37 लाख करोड़ के स्तर पर

नई दिल्ली : हाल ही में देश के राजकोषीय घाटे को लेकर आंकड़े सामने आए है. जी हाँ, बताया जा रहा है कि चालू वित्त वर्ष के अप्रैल माह के दौरान राजकोषीय घाटा 1.37 लाख करोड़ रूपये के स्तर पर पहुँचने में कामयाब हो गया है. जबकि साथ ही यह भी बता दे की यह आंकड़ा वर्ष 2016-17 के बजट में अनुमानित वार्षिक राजकोषीय घाटे के 25.7 प्रतिशत के सामान ही है.

साथ ही यह अनुमान लगाया जा रहा है कि पूरे वित्त वर्ष के दौरान यह 5.33 लाख करोड़ रूपये के स्तर पर नजर आ सकता है. बता दे कि बीते वित्त वर्ष में इसी माह अवधि के दौरान राजकोषीय घाटा बजट वार्षिक अनुमान के 23 प्रतिशत के बराबर देखने को मिला था.

साथ ही इस बात से भी अवगत करवा दे कि राजकोषीय घाटे को वित्त वर्ष 2016-17 के सकल घरेलू उत्पाद के 3.5 प्रतिशत तक रखने का लक्ष्य रखा गया है. इस मामले में सामने आई रिपोर्ट्स से यह पता चला है कि अप्रैल 2016 के दौरान सरकार का व्यय 1.61 लाख करोड़ रूपये पर पहुँच गया है जोकि बजट में अनुमानित पूरे वर्ष के खर्च का 8.2 प्रतिशत बताया जा रहा है. इस आलोच्य अवधि में ही सरकार का राजस्व संग्रह 22,075 करोड़ रूपये रहा जो अनुमान का 1.6 प्रतिशत बताया जा रहा है.