इंदौर की लाड़ली का मुंबई में धड़केगा दिल, प्रदेश में पहली बार ग्रीन कॉरिडोर

Jan 03 2016 12:31 PM
इंदौर की लाड़ली का मुंबई में धड़केगा दिल, प्रदेश में पहली बार ग्रीन कॉरिडोर

इंदौर : जब तक आप इस खबर को पढ़ने वाले होंगे तब तक प्रदेश के इंदौर शहर में तीसरा ग्रीन कॉरिडोर बन गया. इस बार का मामला बहुत अलग है क्योकि इस बार मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर की बेटी का दिल मुंबई में धड़केगा. बात जब किसी के दिल की हो तो फिर सात समुंदर पार की दूरिया भी कम पड़ जाती है.

इंदौर की लाड़ली के दिल को किसी की धड़कन बनाने के लिए मुंबई ले जाया गया. इतना ही नही इस बेटी के अंग और भी लोगो की ज़िंदगियों को बचाने के काम आएंगे. यह प्रदेश का पहला मामला है जब सोनिया का अंग साढ़े पांच सौ किमी की दूरी मुंबई में किसी और के जिस्म में ट्रांसप्लांट के लिए ले जाया गया. साथ ही सोनिया की आंखें किसी की अंधेरी दुनिया को रोशन करेगी. त्वचा इंदौर में ही किसी को ज़िंदगी देगी.

यानि सोनिया के अंग कितनी ही ज़िंदगियों को बचाने में काम आएंगे. बता दे की देर चोइथराम अस्पताल में रात तक सोनिया के उपयोगी अंगो को निकालने की प्रक्रिया शुरू की गई. कमिश्नर ने जानकारी देते हुए बताया की सुबह ग्रीन कॉरिडोर बनाकर अंग दिल्ली-मुंबई रवाना किए गए. शुक्रवार को मालवीय नगर की रहने वाली 20 साल की सोनिया पिता गणेश चौहान का एमवायएच अस्पताल में डॉक्टरों ने ब्रेन डेड घोषित कर दिया था. सोनिया के परिजनों ने शनिवार को बेटी के अंगदान की इच्छा जाहिर की. इसके बाद सोनिया के दिल को मुंबई के लिए रवाना किया गया.