कर्नाटक में इस अस्पताल में बना पहला प्लाज्मा बैंक

बेंगलूरु : कर्नाटक सरकार, एचसीजी हॉस्पिटल और कोविड इंडिया कैंपेन की भागीदारी में एचसीजी हॉस्पिटल में राज्य का पहला प्लाज्मा बैंक खोल दिया गया है. मंगलवार को चिकित्सा शिक्षा मंत्री डॉ. के. सुधाकर और सांसद तेजस्वी सूर्या की मौजूदगी में उप सीएम डॉ. सी. एन. अश्वथनारायण ने  इसका उद्घाटन किया है. जिसके बाद से कोरोना को मात दे चुके 3 संक्रमितों ने प्लाज्मा दान किया है.

कोरोना संक्रमितों के इलाज में प्लाज्मा थेरेपी कारगर साबित हो रही है. कोरोना से स्वस्थ हो गए लोग यहां अपना प्लाज्मा डोनेट कर दूसरों को जिंदगी देने में अहम किरदार निभा सकते हैं. हालांकि, बैंक खुलने से कोरोना के गंभीर मरीजों के इलाज में तेजी आएगी.

बता दें की एचसीजी ग्लोबल के क्षेत्रीय निदेशक और ओरल कैंसर रोग विशेषज्ञ डॉ. विशाल राव ने बोला है कि भारत में 4 से 5 प्लाज्मा बैंक हैं. पहले बैंक की पहल देश की राजधानी दिल्ली में हुई थी. कोरोना से स्वस्थ हुए लोगों के अंदर एक एंटीबॉडी विकसित हो जाती है जो कोरोना संक्रमण से लडऩे में सक्षम रहती है. ब्लड से इन्हीं एंटीबॉडीज को निकालकर मरीजों का उपचार किया जाता है. क्लिनिकल ट्रायल में प्लाज्मा थेरेपी के रेसुल उत्साहजनक रहे हैं. जो की कारगर है. विशेष तौर पर कोरोना के गंभीर मरीजों के लिए. उन्होंने मानवता के नाते अधिक से अधिक कोरोना के पूर्व संक्रमितों से प्लाज्मा दान के लिए आगे आने की अपील की है. वहीं, अब तक कुल पंद्रह लोगों ने प्लाज्मा दान कर दिया है. 9 मरीजों की प्लाज्मा थेरेपी हुई है. कोरोना से स्वस्थ हो गए अन्य बीस लोगों ने दान के लिए पंजीयन करा लिया है.

बच्चे के मुंह में फेवीक्विक डालकर माँ के साथ दुष्कर्म, रतलाम से सामने आया सनसनीखेज मामला

भोपाल में 24 जुलाई से 10 दिन का लॉक डाउन, इंदौर कलेक्टर बोले - अभी जरुरत नहीं

आंध्रा-ओडिशा सीमा पर पुलिस और माओवादियों के बीच मुठभेड़

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -