पहली महावारी से लड़कियों की सेहत पर पड़ता है ऐसा असर

पहली महावारी से लड़कियों की सेहत पर पड़ता है ऐसा असर

महिलाओं को हर महीने एक दर्द से गुजरना पड़ता है. पीरियड प्रॉब्लम आपकी कई तरह की दिक्कत देती है. ऐसे ही हैल्‍थ रिपोर्ट्स की मानें तो जिस उम्र में किसी लड़की का पहला पीरियड शुरु होता है तो उसका असर लड़की की सेहत पर भी पड़ता है. जी हाँ, पीरियड पहला हो या फिर बाद का ये लड़कियों को बहतु दिक्क्त देता है. लेकिन पहले पीरियड का संबंध कुछ बीमारियों से भी होता है. आइए जानते हैं कि फर्स्‍ट पीरियड से आप अपनी सेहत के बारे में किन बातों के बारे में जान सकते हैं.

* वजन: शोधकर्ताओं की मानें तो अगर पहला पीरियड समय से पहले शुरु हो जाए तो युवावस्‍था के शुरुआती समय में वजन बढ़ने की संभावना रहती है और जीवन के बाद के सालों में मोटापा बढ़ने का खतरा रहता है. 

* दिल की सेहत: अगर किसी लड़की के पहले पीरियड 10 साल की उम्र से पहले या 17 साल की उम्र के बाद शुरु हो तो उन लड़कियों को दिल की बीमारी होने का खतरा बहुत ज्‍यादा बढ़ जाता है.

* डायबिटीज़: जिन महिलाओं के पीरियड्स औसत उम्र से पहले आते हैं उनमें टाइप 2 डायबिटीज़ का खतरा ज्‍यादा रहता है. 

* प्रेग्‍नेंसी: जिन महिलाओं को छोटी उम्र में पीरियड्स आते हैं उनमें प्रेग्‍नेंसी के दौरान दिक्‍कतें आने का खतरा ज्‍यादा रहता है. ऐसी परिस्थिति में प्रीक्‍लैम्‍पसिया का रिस्‍क रहता है और अगर इस बीमारी का ईलाज ना किया जाए तो ये मां और होने वाले बच्‍चे दोनों के लिए ही खतरनाक साबित हो सकता है.

* ब्रेस्‍ट कैंसर: अगर किसी महिला को 12 साल की उम्र से पहले ही माहवारी शुरु हो जाती है तो उनमें सामान्‍य महिलाओं की तुलना में ब्रेस्‍ट कैंसर का खतरा 20 प्रतिशत तक बढ़ जाता है.

सेब से ज्यादा उसके छिलके में पाए जाते हैं कई गुण ऐसे करें सेवन

आपके मस्तिष्क के लिए 'ब्राह्मी' से अच्छी नहीं है कोई भी औषधि

गले के हर इन्फेक्शन को खत्म करेगी ये छोटी सी चीज़