छत्तीसगढ़ के पहले सीएम ने दुनिया को कहा अलविदा, बेटे अमित जोगी ने दी जानकारी

छत्तीसगढ़ के पहले सीएम ने दुनिया को कहा अलविदा, बेटे अमित जोगी ने दी जानकारी

छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी का निधन हो गया है. उनके बेटे अमित जोगी ने ट्वीट करके इस बात जानकारी दी है. छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी (Ex इस दुनिया से चल बसे हैं, लेकिन उन्होंने राजनीति में ऐसी छाप छोड़ी है जो सदियों तक याद की जाती रहेगी. अजीत जोगी के पूरे जीवन के सफर में अनेकों ऐसे किस्से हैं जो किसी चौंकाते हैं. आदिवासी समाज से आने वाले अजीत जोगी गांव की गलियों में नंगे पांव पले बढ़े और मिशनरी की मदद से शिक्षा पूरी कर पहले इंजीनियरिंग फिर यूपीएससी की परीक्षा पास कर कलेक्टर बने.

बिहार में उड़ी सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियाँ, तेजस्वी यादव के घर जमा हुए सैकड़ों राजद कार्यकर्ता 

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि 1986 में राजीव गांधी के कहने पर अजीत जोगी ने कलेक्टर की नौकरी छोड़ी और कांग्रेस से राजनीतिक सफर की शुरुआत की. अजीत जोगी 1986 से 1998 तक राज्यसभा के सदस्य रहे. इस दौरान कांग्रेस में वे अलग-अलग पदों पर काम करते रहे. 1998 में रायगढ़ से लोकसभा सांसद चुने गए. बता दे​​ कि 2000 में जब छत्तीसगढ़ राज्य बना, तो अजीत जोगी पहले मुख्यमंत्री बने. वे 2003 तक सीएम रहे. 2016 में कांग्रेस से बगावत कर उन्होंने अपनी अलग पार्टी जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ बना ली.

क्या अब येदियुरप्पा के विधायक हो चुके है बा​गी ?

अपने बयान में अमित जोगी ने ट्वीट कर कहा है कि 20 वर्षीय युवा छत्तीसगढ़ राज्य के सिर से आज उसके पिता का साया उठ गया. केवल मैंने ही नहीं बल्कि छत्तीसगढ़ ने नेता नहीं, अपना पिता खोया है. माननीय अजीत जोगी जी ढाई करोड़ लोगों के अपने परिवार को छोड़ कर ईश्वर के पास चले गए. गांव-गरीब का सहारा, छत्तीसगढ़ का दुलारा हमसे बहुत दूर चला गया. भारतीय प्रशासनिक सेवा से राजनीति में आए अजीत जोगी वर्तमान में मारवाही विधानसभा सीट का प्रतिनिधित्व कर रहे थे. उनकी पत्नी रेणु जोगी कोटा क्षेत्र से विधायक हैं. जोगी वर्ष 2000 में छत्तीसगढ़ राज्य के निर्माण के बाद यहां के पहले मुख्यमंत्री बने तथा वर्ष 2003 तक इस पद पर रहे. राज्य में वर्ष 2003 में हुए विधानसभा के पहले चुनाव में कांग्रेस, भारतीय जनता पार्टी से पराजित हो गई थी. राज्य में कांग्रेस नेताओं से मतभेद के चलते जोगी ने वर्ष 2016 में नई पार्टी जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) का गठन कर लिया था और वह उसके प्रमुख थे.

भोपाल में सांसद प्रज्ञा ठाकुर के लगे गुमशुदगी के पोस्टर

कोरोना की दवा की मात्रा को लेकर ICMR ने WHO को लिखा पत्र

क्या 15 दिनों के लिए आगे बढ़ाया जाने वाला लॉकडाउन ?