कानपुर में मिला ज़ीका वायरस का पहला केस, केंद्र ने फ़ौरन भेजी विशेषज्ञों की टीम

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के कानपुर शहर में जीका वायरस (Zika Virus) के संक्रमण का एक मामला दर्ज किया गया है. जीका संक्रमण का मामला सामने आते ही जिले में हड़कंप मच गया है. संक्रमण आस-पास के इलाकों में न फैले इसलिए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक हाई लेवल मल्टी डिसिप्लिनेरी टीम को फ़ौरन कानपुर भेजा है. 22 अक्टूबर को कानपुर में एक 57 साल के व्यक्ति को जीका वायरस से संक्रमित पाया गया था.

जीका वायरस संक्रमण का मामला सामने आने के बाद जो केंद्रीय टीम रवाना की गई है, उसमें एंटोमोलॉजिस्ट (कीट विज्ञान का जानकार), सार्वजनिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ, गायनेकोलॉजिस्ट (gynaecologist) शामिल हैं. ये विशेषज्ञ नेशनल वेक्टर बोर्न डिसीज कंट्रोल प्रोग्राम, नेशनल सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल और राम मनोहर लोहिया अस्पताल से हैं. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से भेजी गई ये टीम राज्य के स्वास्थ्य मंत्रालय के साथ मिलकर जीका वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिए कदम उठाएगी.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ये टीम राज्य के स्वास्थ्य विभाग के साथ मिलकर कार्य करेंगी और जमीनी स्तर पर हालातों की जानकारी लेकर जीका संक्रमण की रोकथाम के लिए एक्शन प्लान तैयार करेगी और उसे लागू करने में मदद करेगी. ये टीम जीका वायरस की रोकथाम के लिए स्वास्थ्य विभाग को निरंतर आवश्यक दिशा निर्देश भी देती रहेगी.

रजनीकांत को मिला दादा साहब फाल्के पुरस्कार, अपनी जर्नी को किया याद

67th National Film Awards: कंगना को नेशनल तो रजनीकांत को मिला दादा साहेब अवॉर्ड

आज दिए जा रहे हैं 67वें नेशनल फिल्म अवार्ड्स, कंगना से लेकर रजनीकांत तक का है नाम

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -