लोगों की सुरक्षा करने वालों के टेंट में लगी आग, जलकर खाक हुआ सारा सामान

उज्जैन: सिंहस्थ 2016 सफलता के साथ संपन्न हो गया. हालांकि मई माह के दौर में प्राकृतिक आपदा के चलते सिंहस्थ में कुछ परेशानी हुई. मगर फिर से पांडालों को संवारा गया. घाटों को साफ किया गया और स्नान व श्रद्धालुओं के, साधु -संतों के पांडालों में आने का सिलसिला प्रारंभ हो गया. सिंहस्थ को सुरक्षित, व्यवस्थित और सफल बनाने में पुलिस विभाग का अहम योगदान था. सभी ने पुलिसकर्मियों के योगदान की जमकर सराहना की. पुलिसकर्मी भी खुश थे कि जनता की सेवा के साथ उन्होंने धार्मिक उत्सव का आनंद लिया।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने उनके लिए भोज का आयोजन किया था. मगर जब पुलिसकर्मी भोज के लिए गए थे इसी दौरान उनके टेंट में आग लग गई. पुलिसकर्मियों का यह टेंट बहुत बड़ा था. दरअसल यह कैंप जूना सोमवारिया में स्थित था. कार्तिक मेला मैदान के समीप स्थित इस टेंट में आगजनी का प्रारंभिक कारण शॉर्ट सर्किट बताया गया. इस आग में कैंप में रखा पुलिसकर्मियों का सामान जल कर स्वाहा हो गया. यही नहीं टेंट में रखा सामान भी जलकर राख हो गया।

आग लगने पर वहां कुछ पुलिस अधिकारी और पुलिसकर्मी मौजूद थे. इस दौरान एसपी फायर राजेश सहाय और अन्य पुलिसकर्मी दौड़कर आग बुझाने में जुट गए. एसपी फायर राजेश सहाय ने पुलिसकर्मियों की सुरक्षा का भी ध्यान रखा. ऐसे में पुलिसकर्मियों के करीब 25 तंबू जल गए. इन तंबूओं में रखा सामान जलकर खाक हो गया. इस टेंट में करीब 209 डोमेट्री रूम और दूसरे तंबू भी शामिल थे. जब पुलिसकर्मी भोजन कर वापस आए तो वे आगजनी को देखकर बहुत दुखी हुए।

आग बुझाने में करीब 50 से अधिक फायरकर्मी जुट गए. आग में पुलिसकर्मियों के सामान में रखी वर्दियां, उनके बच्चों के लिए खरीदे गए खिलौने आदि भी जलकर राख हो गए. यह देखकर वे रोने लगे. ऐसे में उन्हें डीआईजी राकेश गुप्ता और एडीजी वी. मधुकुमार ने हिम्मत बंधाई।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -