किसान आंदोलनकारियों ने देवास में 8 बसों और डायल 100 में लगाई आग

देवास/ मंदसौर: किसान आंदोलन के दौरान भड़की हिंसा बढ़ती ही जा रही है. मंदसौर में पुलिस फायरिंग में 6 किसानो की मौत के बाद हालात बेकाबू हो गए है. किसानो ने प्रदर्शन उग्र कर दिया है. जिसमे लगातार हिंसा की घटनाये सामने आ रही है. मिली जानकारी में पता चला है कि देवास के नजदीक चापड़ा में आंदोलनकारी किसानों ने एसडीएम, एसडीओपी एवं डायल 100 में तोड़फोड़ कर उसमें आग लगाने के साथ नेवरी फाटे के पास प्रदर्शनकारियों ने 2 चार्टर्ड सहित 8 बसों को आग के हवाले कर दिया. जिसमे सवार यात्रियों को जान बचाकर भागना पड़ा. बंद दुकानों के सामने खड़े ठेलों को रोड पर लाकर आग लगा दी गई. 

मंदसौर में भी हिंसा का दौर और उग्र होता जा रहा है. जिसमे गुस्साए किसानों ने बुधवार को जिले के बरखेड़ा पंत में एसपी और कलेक्टर के साथ धक्कामुक्की करने के साथ उन पर हमला किया गया, जिसमे उन्हें सर पर मारने के अलावा उनके कपडे भी फाड़ दिए गए. फायरिंग में मारे गए एक शख्स के अंतिम संस्कार के बाद भीड़ पुलिस की ओर दौड़ी. पुलिस के कई जवान जान बचाने के लिए भागकर पिपलिया मंडी थाने लौट गए. थाने के बाहर 600 जवान और उतने ही किसान अामने-सामने हो गए. मीडियाकर्मियों से भी मारपीट की घटनाये सामने आयी है. पुरे जिले में फिलहाल कर्फ्यू लगाया गया है.

गौरतलब है कि उचित दाम की मांग को लेकर हड़ताल से शुरू हुए किसान आंदोलन ने हिंसक रूप ले लिया है. जिसमे मंदसौर के अलावा देवास जिले में भी जमकर हिंसक घटनाये हो रही है. आंदोलनकारी किसानों ने इंदौर-भोपाल राजमार्ग पर पत्थर जमा दिए. कई पेड़ों को भी हाईवे के बीचोबीच पटक दिया गया. नेवरीफाटा पर दुकानों पर पत्थर फेंके और हाईवे को जाम कर करने के साथ कलेक्टर से झूमाझटकी करने की सूचना भी मिली है.

मंदसौर में किसानो ने फिर शुरू किया पथराव, तिरंगे में लपेटकर किसान को दी अंतिम विदाई, कलेक्टर से मारपीट

किसानों की मौत से घिरा 'शिव' राज, सिंधिया ने बताया काला दिन

मंदसौर में किसानो का प्रदर्शन हुआ उग्र, 6 की मौत, लगाया कर्फ्यू

महाराष्ट्र में कर्ज से परेशान 4 किसानों ने की ख़ुदकुशी

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -