रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ाई महिला पटवारी, मीडिया को देखते ही निकल गई अकड़

इंदौर। गुरुवार को लोकायुक्त पुलिस की टीम ने एक महिला पटवारी को 4 हजार रुपए रिश्वत लेते हुए रंगेहाथ पकड़ा। जब महिला पटवारी पकड़ाई तो उसके चेहरे पर अपनी गलती का कोई पछतावा नही था, लेकिन जैसे ही उसने मीडिया के कैमरे को देखा तो उसके चेहरे से पसीना छूटने लगा और वह मुंह छिपाने लगी। लोकायुक्त टीम ने 30 वर्षीय पटवारी मोनिका मोहरी के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत प्रकरण दर्ज कर लिया है।

कलेक्टर आकाश त्रिपाठी ने एक्शन लेते हुए पटवारी को सस्पेंड कर दिया है। लोकायुक्त DSP बीएस परिहार ने बताया कि राजेन्द्र कुमावत ने लोकायुक्त एसपी अरुण कुमार मिश्रा से मोनिका की शिकायत की थी। मोनिका सांवेर में पदस्थ है। वहां की एक ज़मीन के नामांतरण के नाम पर वह कुमावत से रिश्वत की मांग कर रही थी, उसने अकड़कर फरियादी से कहा था कि पैसे दिए बिना उसका काम नहीं हो पाएगा। जांच में इसकी शिकायत सही पाए जाने पर लोकायुक्त का एक दल फरियादी के साथ सांवेर के तहसील कार्यालय भेजा गया था।

आरोपी पटवारी सांवेर तहसील कार्यालय भवन के एक कमरे में बैठती है। फरियादी दोपहर करीब 12 बजे पहुंचा तब पटवारी उसी कमरे में कार्य कर रही थी। तब पटवारी ने फरियादी से कहा- यहीं पर बैठो, 2 मिनट में आती हूं। पटवारी कमरे से बाहर निकली और तहसील कार्यालय के चारो तरफ अच्छी तरह मुआयना किया। फिर वह वापस अपने कमरे में आई और फरियादी से 4 हजार रुपए लेकर अपने पर्स में रखने ही वाली थी की घात लगाए बैठी लोकायुक्त पुलिस की टीम ने उसे रंगेहाथ पकड़ लिया। पकड़े जाते ही बोली- छोड़ दो गलती हो गई। उसे पूछा गया कि पैसे कहां है तब उसने कहा- इस पर्स में है। बाद में टीम ने पैसे जब्त कर आरोपी को भ्रष्टाचार अधिनियम के तहत गिरफ्तार कर मौके पर ही जमानत दे दी।

Most Popular

- Sponsored Advert -