आखिर क्यों मनाते हैं फादर्स डे, जानिए इसका इतिहास

किसी भी व्यक्ति के जीवन में उसके पिता की काफी अहमियत होती है और पिता के बिना जीवन कुछ नहीं होता है। आप भी अपने जीवन में पिता की एहमियत जानते ही होंगे। जीवन में मां हमें प्यार और ममता देती हैं वहीं पिता जीवन की मजबूत नींव रखते हैं। जी हाँ और यही वजह है कि हर साल जून के महीने में फादर्स डे सेलिब्रेट किया जाता है। आपको बता दें कि फादर्स डे का इतिहास कई साल पुराना है। अब आज हम आपको इसके इतिहास के बारे में बताने जा रहे हैं।

कब है फादर्स डे (Kab Hai Father's Day)- दुनियाभर में हर साल जून के महीने में फादर्स डे सेलिब्रेट किया जाता है। जी दरअसल जून के तीसरे रविवार के दिन इसे मनाया जाता है और इस साल ये 19 जून 2022 को है। इस दिन को मनाने की शुरुआत साल 1910 में हुई थी।

फादर्स डे का इतिहास (Father's Day ki History)- सामने आने वाली रिपोर्ट्स के मुताबिक, फादर्स डे मनाने की शुरुआत अमेरिका (US) में हुई थी। जी दरअसल यह केवल पिछले कुछ सालों में इस दिन ने भारत में भी बहुत लोकप्रियता हासिल की है। वहीं कथित तौर पर, फादर्स डे को सबसे पहले यूएसए में सोनोरा स्मार्ट डोड द्वारा प्रस्तावित किया गया था और वह और उसके पांच भाई-बहनों को उनके पिता, दिग्गज विलियम जैक्सन स्मार्ट ने पाला था। यहाँ अपने पिता के प्यार और परिवार के प्रति समर्पण को ध्यान में रखते हुए, उन्होंने मदर्स डे की तरह ही पिता को समर्पित करने के एक दिन का अनुरोध किया। जी हाँ और यह दिन आखिरकार जून के तीसरे रविवार को मनाया गया।

आपको बता दें कि पहला फादर्स डे 19 जून 1910 को मनाया गया था और उसके बाद में साल 1972 में, यूएस के राष्ट्रपति रिचर्ड निक्सन ने फादर्स डे को नेशनल हॉलिडे घोषित किया। आपको बता दें कि फादर्स डे लोगों के लिए अपने जीवन में पुरुषों को सेलिब्रेट करने का समय है। जी हाँ और बच्चों के लिए, यह अपने पिता के लिए सम्मान दिखाने का दिन है। वैसे आप कई तरीकों से फादर्स डे सेलिब्रेट कर सकते हैं। आप चाहे तो आप उनके लिए कुछ स्पेशल गिफ्ट खरीद सकते हैं, उन्हें उनकी फेवरेट स्पोर्ट को दिखाने के लिए ले जा सकते हैं, मूवी डेट प्लान कर सकते हैं या बस एक कार्ड खरीद सकते हैं जो उन्हें बताता है कि वे कितने शानदार हैं।

19 जून को है फादर्स डे, अपने पिता को दें यह खास गिफ्ट्स

'पापा मुझे और मां को मारते हैं..खाना नहीं देते' वरुण की इस फैन ने लगाई मदद की गुहार

'अभी मेरे बेटे की राख ठंडी भी नहीं हुई और लोग...' झूठी खबरों पर बोले सिद्धू के पिता

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -