बाबा के कहने पर पिता ने उठाया ऐसा कदम, देने लगा बेटे की बलि, लेकिन...

आजकल बढ़ते जा रहे अपराध के मामले सभी को हैरान कर रहे हैं. ऐसे में जो मामला हाल ही में सामने आया है वह असम में उदालगिरी जिले से है जंहा एक 3 वर्षीय बच्चे को बचाया गया, जबकि उसका परिवार रविवार को उसका बलिदान करने वाला था। सूत्रों के अनुसार, परिवार ने एक नकली बाबा के चक्कर में पड़कर यह फैसला लिया और मंदिर में प्रार्थना करने के बाद एक बच्चे की बलि देने की कोशिश की। जब 2 ग्रामीणों को इस बारे में जानकारी मिली तो उन्होंने इस घटना की सुचना स्थानीय पुलिस को दी।  पुलिस ने सही समय पर हस्तक्षेप कर बच्चे को बचा लिया. हालाँकि पुलिस के हस्तक्षेप करने पर परिवार  हिंसक हो गया और तेजधार हथियारों से उन पर हमला करने की कोशिश की।

एएनआई के रपोर्टस के मुताबिक, स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए पुलिस को गोलियां चलानी पड़ीं। घटना में परिवार के मुखिया सदस्य- जदाब सहरिया और उनके पुत्र पुलकेश सहरिया गोलीबारी में घायल हो गए। बाद में गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज में दम तोड़ दिया। पुलिस के मुताबिक, परिवार ने स्थानीय लोगों पर भी धारदार हथियार से हमला किया।

एक ग्रामीण ने एएनआई को बताया कि यह घटना सरकारी स्कूल के शिक्षक जदाब सहरिया के घर में हुई। सहारिया अपनी पत्नी को बीमारी से छुटकारा दिलाने के लिए अपने बच्चे की बलि दे रहा था। कथित तौर पर, परिवार एक नकली बाबा के चक्कर में पड़ गया था, जिसकी पहचान रमेश सहरिया के रूप में की गई थी। घटना के बाद वह बाबा भाग गया था। हालांकि, पुलिस ने स्थिति को नियंत्रित कर लिया और बच्चे को बचा लिया।

शराब के नशे में पहले पत्नी को पीटा, फिर बेटे को फांसी पर लटकाया और...

महिला ने रची फर्जी गैंगरेप की साजिश, इस तरह हुआ खुलासा

केरल: बच्चों का यौन शोषण करता था पादरी, पुलिस ने किया गिरफ्तार

Most Popular

- Sponsored Advert -