बेटी की हत्या कर इंजीनियर खुद भी झूल गया फांसी पर, लिख गया बेटी को भी ले जा रहा हूं साथ

Aug 29 2015 01:43 AM
बेटी की हत्या कर इंजीनियर खुद भी झूल गया फांसी पर, लिख गया बेटी को भी ले जा रहा हूं साथ

वाराणसी: मंडुआडीह थानाक्षेत्र के डीएलडब्लू में एक दर्दनाक घटना सामने आई है। यहां एक बाप ने पहले बेटी की हत्या की फिर खुद ने फांसी लगा कर आत्महत्या कर ली। पेशे से सीनियर सेक्शन इंजीनियर संतोष कुमार सिंह ने शुक्रवार को पहले छठी क्लास में पढ़ने वाली 11 वर्षीय बेटी साक्षी का गला दबाया, फिर खुद फांसी के फंदे पर झूल गया। सुसाइड नोट में उसने लिखा, 'बिन मां-बाप की बच्ची की जिम्मेदारी भी कोई नहीं लेना चाहता। इसलिए उसे भी अपने साथ लेकर जा रहा हूं।

पुलिस को मौके से 2 पन्ने का सुसाइड नोट मिला है, जिसपर बुधवार की डेट लिखी है। सुसाइड नोट में संतोष ने एक के बाद एक परिवार के 3 सदस्यों की मौत से सदमे में आने का जिक्र किया है। संतोष का एक बेटा अभिषेक दिल्ली में नौकरी करता है। पुलिस उससे संपर्क करने की कोशिश कर रही है। फिलहाल शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है।

पढ़िए सुसाइड नोट

मैं अपने बेटे से बहुत प्यार करता था और एक पल भी उसके बिना नहीं रह सकता था। मैंने उसका बीएचयू और लखनऊ में इलाज कराया, लेकिन उसकी जान नहीं बचा पाया। मार्च 2015 में पत्नी को कैंसर हो गया। एसजीपीजीआई लखनऊ में उसका इलाज कराया गया। डॉक्टरों ने कहा कि वह 5 साल और जिंदा रह सकती है, लेकिन कुछ ही महीनों में उसकी भी मौत हो गई। पिता और बेटे की मौत के बाद पत्नी के मरने का गम मैं नहीं झेल पा रहा हूं। मेरी और मेरी बेटी की मौत का जिम्मेदार भगवान और मैं खुद हूं। आखिर में संतोष ने अपने भाइयों कमलेश और शेखर से बेटे अभिषेक का ख्याल रखने की गुजारिश की।