'आपको मुसलमानों ने जिताई 111 सीटें, लेकिन आप...', अब अखिलेश यादव पर मुस्लिमों को बचाने का दबाव

लखनऊ: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में RLD प्रमुख जयंत चौधरी, ओपी राजभर और अपने चाचा शिवपाल यादव को साथ लेकर उतरने वाले सपा प्रमुख अखिलेश यादव हार के बाद अकेले पड़ते नज़र आ रहे हैं। एक ओर चाचा शिवपाल यादव के भाजपा में जाने के कयास लग रहे हैं और वह सपा की बैठक में न बुलाए जाने को लेकर खफा हैं, तो वहीं दूसरी ओर आजम खान का खेमा भी नाराज बताया जा रहा है। आजम खान सपा के सबसे बड़े मुस्लिम चेहरे रहे हैं और मुलायम सिंह यादव के काफी करीबी माने जाते हैं। काफी समय से आज़म कई मामलों में जेल में कैद हैं और उनके समर्थक अब खुलेआम नाराजगी प्रकट कर रहे हैं।

रामपुर में सपा के मीडिया प्रभारी फसाहत अली खान ने तो सीधे अखिलेश पर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि मुस्लिमों को जब जेल भेजा गया और उनकी संपत्तियां जब्त की गईं, तो अखिलेश यादव खामोश बैठे रहे। उनका यह भी कहा है कि सपा ने 111 सीटें मुस्लिमों के ही वोटों से जीती हैं। उन्होंने यह भी कहा कि अखिलेश यादव या फिर मुलायम सिंह को राज्य का मुख्यमंत्री बनाने में मुस्लिम मतदाताओं का ही बड़ा योगदान था। बता दें कि यह पहली बार था, जब आजम खान टीम की तरफ से इस तरह अखिलेश यादव के खिलाफ कुछ बोला गया है। इसके बाद से ही कयास लग रहे हैं कि आजम खान सपा से किनारा कर भी सकते हैं। इसके अलावा उनके एक अलग पार्टी बनाने की भी चर्चाएं हैं।

ऐसे में सवाल यह है कि अखिलेश यादव के खिलाफ इस तरह की बगावत होने का कारण क्या है? दरअसल, सपा की यूपी चुनाव में करारी शिकस्त ने एक तरफ गठबंधन के साथियों में मतभेद पैदा कर दिए हैं, तो वहीं पार्टी में भी अंदरखाने बगावती सुर उभरने लगे हैं। इसका कारण यह है कि सपा प्रमुख अखिलेश यादव के पास अपने नेताओं को समाहित करने के लिए उपयुक्त पदों की कमी है। यूपी विधानसभा में वह नेता विपक्ष का पद किसी को दे सकते थे, मगर अब यह जिम्मेदारी उन्होंने स्वयं ही ले ली है। इसके साथ ही प्रदेश अध्यक्ष के तौर पर नरेश उत्तम पटेल पर उनका भरोसा बना हुआ है। 

दंड प्रक्रिया शिनाख्त विधेयक को लेकर CM नीतीश ने लिया ये बड़ा फैसला

बंगाल में बिना 'हिंसा' के कब होगा चुनाव ? अब भाजपा प्रत्याशी अग्निमित्र पॉल के काफिले पर हुआ हमला

पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों को लेकर CM नीतीश ने दिया बड़ा बयान, बोले- 'कीमतें कम करना संभव नहीं'

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -