किसान आंदोलन: जंतर-मंतर पर किसानों का प्रदर्शन, छावनी में तब्दील हुआ इलाका

Jul 22 2021 10:12 AM
किसान आंदोलन: जंतर-मंतर पर किसानों का प्रदर्शन, छावनी में तब्दील हुआ इलाका

नई दिल्ली: केंद्र द्वारा लाए गए तीन नए कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों को आखिरकार दिल्ली के जंतर-मंतर पर प्रदर्शन को अनुमति मिल गई है। किसान आज से जंतर-मंतर पर भारी सुरक्षा के बीच 'किसान संसद' आरंभ करेंगे। किसानों के प्रदर्शन के मद्देनज़र सिंघु बॉर्डर से लेकर जंतर-मंतर तक सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध कर दिए गए हैं। जगह-जगह पुलिस की तैनाती है। दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने नौ अगस्त तक अधिकतम 200 किसानों को प्रदर्शन की विशेष इजाजत दे दी है। दिल्ली पुलिस के सूत्रों ने बताया कि 200 किसानों का एक समूह पुलिस की सुरक्षा के साथ बसों में सिंघू बॉर्डर से जंतर-मंतर आएगा और वहां दोपहर 11 बजे से शाम 5 बजे तक प्रदर्शन करेगा।

दिल्ली पुलिस के सूत्र ने बताया है कि कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसान यूनियनों का नेतृत्व कर रहे संयुक्त किसान मोर्चा (SKM) को इस संबंध में एक शपथ-पत्र देने के लिए कहा गया है कि कोरोना के सभी नियमों का पालन किया जाएगा और आंदोलन शांतिपूर्ण होगा। वहीं, SKM ने कहा कि संसद का मॉनसून सत्र अगर 13 अगस्त को खत्म होगा, तो जंतर-मंतर पर उनका विरोध प्रदर्शन भी आखिर तक तक जारी रहेगा। हालांकि उपराज्यपाल ने नौ अगस्त तक प्रदर्शन की इजाजत दी है।

बता दें कि इस साल 26 जनवरी को एक ट्रैक्टर रैली के दौरान दिल्ली में हुई हिंसा के बाद यह पहली बार है जब अधिकारियों ने विरोध प्रदर्शन करने वाले किसान यूनियनों को शहर में प्रवेश की इजाजत दी है। दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण द्वारा जारी एक आदेश के मुताबिक, उपराज्यपाल अनिल बैजल, जो DDMA के अध्यक्ष भी हैं, ने गुरुवार से 9 अगस्त तक हर दिन अधिकतम 200 किसानों द्वारा पूर्वाह्न 11 बजे से शाम पांच बजे तक जंतर-मंतर पर विरोध प्रदर्शन की अनुमति दी है।

अमेरिका ने कनाडा और मैक्सिको के साथ कोरोना यात्रा प्रतिबंधों का किया विस्तार

रेडिको खेतान ने यूपी के छह जिलों में स्थापित किए ऑक्सीजन जनरेटर प्लांट

भारती एयरटेल ने भारत में 5जी नेटवर्क के विकास के लिए इंटेल के साथ किया समझौता