बारदाना की कमी होने पर किसानों का फूटा गुस्सा, कई जगहों पर किया विरोध प्रदर्शन

केशकाल: धान खरीदी के लिए खरीदी केंद्रों में बारदाना नहीं होने के कारण एक बार फिर किसानों का गुस्सा फूट पड़ा है. वहीं नाराज किसानों ने एक बार फिर से बीते मंगलवार को राष्ट्रीय राजमार्ग-30 को जाम कर दिया. जिसको जगदलपुर से लेकर नारायणपुर और कांकेर तक रास्ता बंद कर दिया है. इस वजह से केशकाल घाट में गाड़ियों की लंबी लाइन लग गई थी. किसानों ने कोंडागांव- नारायणपुर राष्ट्रीय राजमार्ग में कोकोड़ी पर किसानों ने धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया हैं. 

इस बीच किसानों ने सीएम भूपेश बघेल के खिलाफ की जमकर नारेबाजी भी की. 6 घंटे से ज्यादा समय तक धरना प्रदर्शन होने से इस मार्ग पर आवगमन बुरी तरह से प्रभावित हो गया. किसानों ने बताया कि धान की खरीदी को महज दो दिन बचे हैं. वहीं, हम अपने बारदानों में धान लाए हैं. बारदाने भी सरकार को दे रहे हैं. लेकिन हमारा धान लेने से मना किया जा रहा है. धरने के बीच स्कूली बसों और एंबुलेंस को जानेे दिया वहीं, जाम हटाने के लिए रात करीब आठ बजे पुलिस को केसकाल में लाठी चार्ज करना पड़ा था.

धान खरीदी खत्म होने के लिए मात्र 2 ही दिन शेष रह गए हैं,परन्तु खरीदी केंद्रों में बारदाने की समस्या के वजह से खरीदी प्रभावित हो रही है. बीते सोमवार को 6 खरीदी केंद्रों में किसानों ने प्रदर्शन किया था, दूसरे दिन मंगलवार को 4 खरीदी केंद्रों से किसान सड़कों पर उतर आए थे. इसी बीच उन्होंने चक्काजाम भी कर दिया. मंगलवार को जिले के 15 खरीदी केंद्रों में बारदाना नहीं होने से खरीदी नहीं हो पाई थी. जिला विपणन अधिकारी ने बताया है कि बारदाने कब तक आएंगे, वे भी नहीं बता सकते. जिले में इस वर्ष 26.50 लाख क्विंटल धान खरीदी का लक्ष्य रखा गया था जिससे ज्यादा 26.85 लाख क्विंटल धान खरीदी हो गई है परन्तु अभी भी 10,609 किसानों का धान खरीदा जाना शेष है. पंजीकृत की माने तो 75,385 में से अब तक 64,776 किसान ही अपना धान बेच पाए हैं. 

अब पहाड़ से मैदान तक का सफर होगा महंगा, बढ़ जाएंगे टैक्सी के दाम

पुलवामा में सुरक्षाबलों को बड़ी कामयाबी, 3 आतंकियों को किया ढेर

आज से देहरादून में बढ़ जाएंगे कई चीजों के दाम, बस और ऑटो में देना होगा इतना किराया

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -