सिल्वर मेडल जीतने पर सुहास एल यथिराज को PM मोदी और CM योगी ने दी शुभकामनाएं

भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी और गौतम बुद्ध नगर के जिलाधिकारी सुहास एल यथिराज ने एक नया इतिहास रच दिया है। जी दरअसल उन्होंने टोक्यो पैरालंपिक में सिल्वर मेडल जीतकर सभी को ख़ुशी दी है। आज यानी रविवार को उन्हें बैडमिंटन के पुरुष सिंगल्स एसएल4 फाइनल में फ्रांस के वर्ल्ड नंबर-1 लुकास मजूर ने 63 मिनट में 15-21, 21-17, 21-15 से हराया। आप सभी को बता दें कि 38 साल के सुहास ने पैरालंपिक के बैडमिंटन इवेंट में प्रमोद भगत के गोल्ड के बाद सिल्वर मेडल दिलाया।

अब टोक्यो खलों में भारत के पदकों की संख्या 18 तक पहुँच चुकी है। आपको बता दें कि एसएल4 वर्ग में ही तरुण ढिल्लों को कांस्य पदक मैच में हार का सामना करना पड़ा, जी दरअसल उन्हें इंडोनेशिया के फ्रेडी सेतियावान ने 32 मिनट में 21-17, 21-11 से मात दी। इस बार भारत के खाते में 4 स्वर्ण, 8 रजत और 6 कांस्य पदक हैं। ऐसा माना जा रहा है कि यह पैरालंपिक के इतिहास में भारत का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है। आप सभी को बता दें कि रियो पैरालंपिक (2016) में भारत ने 2 स्वर्ण सहित 4 पदक जीते थे। जी दरअसल एसएल वर्ग में वो खिलाड़ी हिस्सा लेते हैं, जिन्हें खड़े होने में दिक्कत हो या निचले पैर का विकार हो, जबकि एसयू में ऊपरी हिस्से के विकार वाले एथलीट खेलते हैं। सुहास के बारे में बात करें तो उन्हें एक टखने में समस्या है।

आज उनकी जीत के बाद PM मोदी ने ट्वीट कर लिखा- 'सेवा और खेल का अद्भुत संगम! सुहास यथिराज ने अपने असाधारण प्रदर्शन की बदौलत हमारे पूरे देश की कल्पना पर कब्जा कर लिया है। बैडमिंटन में रजत पदक जीतने पर उन्हें बधाई। भविष्य के प्रयासों के लिए शुभकामनाएं।' वहीँ दूसरी तरफ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लिखा- 'आज टोक्यो पैरालंपिक में सुहास एल। वाई। ने बैडमिंटन स्पर्धा में रजत पदक जीतकर भारतवर्ष की खेल प्रतिभा को वैश्विक पटल पर प्रतिष्ठित किया है। समूचे देश को हर्षाने वाली यह अविस्मरणीय उपलब्धि अनेकानेक खिलाड़ियों को प्रेरित करेगी। आपको अनंत शुभकामनाएं।'

'जावेद अख्तर मानसिक रूप से सही नहीं है': बीजेपी नेता

आज है मासिक शिवरात्रि व्रत, जानिए आज का पंचांग

डेंगू से हुई मौतों के बाद केंद्रीय स्वास्थ्य टीम ने किया फिरोजाबाद में निरीक्षण

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -