देश में 30 फीसदी घटा गर्भनिरोधक गोलियों का इस्तेमाल

देश में 30 फीसदी घटा गर्भनिरोधक गोलियों का इस्तेमाल

हमारे देश की जनसंख्या दिनों—दिन बढ़ रही है। आंकड़े बताते हैं कि अगर देश की जनसंख्या इसी हिसाब से बढ़ती रही, तो आने वाले 20 सालों में भारत की जनसंख्या दुनिया भर में सबसे ज्यादा होगी। बढ़ती जनसंख्या के साथ ही एक और चौंकाने वाली खबर सामने आई है। एक रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि देश में जहां जनसंख्या बढ़ रही है, वहीं परिवार नियोजन के साधनों को प्रयोग तेजी से घटा है। 

स्वास्थ्य मंत्रालय की एक रिपोर्ट के अनुसार, देश में गर्भनिरोधक गोलियों का इस्तेमाल जहां 30 फीसदी घटा है, वहीं कॉन्डोम के इस्तेमाल में 52 फीसदी तक की कमी आई है। रिपोर्ट में यह भी खुलासा हुआ है कि पिछले 8 सालों में देश में नसबंदी के मामले 75 फीसदी तक घटे हैं। यह रिपोर्ट 2008 से 2016 के बीच एक सर्वे के आधार पर तैयार ​की गई है। रिपोर्ट में  बताया गया है कि देश में गर्भनिरोधक गोलियों का इस्तेमाल साक्षरता वाले राज्यों में ज्यादा घटा है, वहीं कम साक्षर राज्यों में इसका इस्तेमाल बढ़ा है।  रिपोर्ट में बताया गया है कि केरल में ऐसी गोलियों का प्रयोग 42  फीसदी कम हुआ, तो बिहार में 8 फीसदी बढ़ा। रिपोर्ट बताती है कि साक्षर राज्यों में गर्भनिरोधक संसाधनों में कमी की मुख्य वजह यह है कि यहां के लोग गर्भनिरोध के लिए अबॉर्शन ज्यादा कराने लगे हैं। 


बता दें कि रिपोर्ट में यह भी खुलासा हुआ है कि देश में इमरजेंसी पिल्स का इस्तेमाल 100 फीसदी बढ़ा है। रिपोर्ट  बताती है कि इसके अलावा देश में पिछले 8 सालों में अबॉर्शन की संख्या भी दोगुनी हो गई है। 

ये भी पढ़ें—

ओरल सेक्स से जुड़े मिथ बर्बाद कर देते हैं सेक्स लाइफ

क्या है नया सेक्स ट्रेंड पीगैज्म?

फायदेमंद होते है सुबह का सेक्स, खुद ही जान लीजिये

 

?