आग में मरने वाले मरीजों के परिवार को मिलेगा इतने लाख का मुआवजा

By Emmanual Massey
Nov 27 2020 02:22 PM
आग में मरने वाले मरीजों के परिवार को मिलेगा इतने लाख का मुआवजा

गुजरात के राजकोट शहर में गुरुवार देर रात निर्दिष्ट कोविड-19 अस्पताल के ICU में आग लगने से 5 मरीजों की मौत हो चुकी है। दमकल विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि अस्पताल में कोविड-19 से संक्रमित जिन 26 अन्य मरीजों का उपचार किया जा रहा था, उन्हें सुरक्षित बचा लिया गया है। इन सभी को दूसरे अस्पतालों में भर्ती किया गया था। दमकल मंत्रालय के अधिकारी जे. बी. थेवा ने कहा कि आनंद बंगलो चौक स्थित चार मंजिला उदय शिवानंद हॉस्पिटल में पहली मंजिल पर बने आईसीयू में गुरुवार देर रात तकरीबन साढ़े 12 बजे आग लगी। यहां कुल 31 मरीज भर्ती थे। गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने घटना पर दुख प्रकट किया और इसकी जांच के आदेश दे दिए हैं। उन्होंने मृतकों के परिजन को चार-चार लाख रुपये बतौर मुआवजा देने का एलान कर दिया है।

राजकोट के पुलिस आयुक्त मनोज अग्रवाल ने कहा, '' आग लगने से आईसीयू में भर्ती 11 मरीजों में से पांच मरीजों की जान चली गई। आग के बाकी मंजिलों पर फैलने से पहले उस पर काबू पा लिया गया। '' राज्य के उप मुख्यमंत्री नितिन भाई पटेल ने कहा ''आईसीयू वार्ड में देर रात करीब साढ़े 12 बजे आग लगी और दमकल विभाग ने करीब आधे घंटे में ही इस पर काबू पा लिया। कोरोना वायरस से संक्रमित तीन मरीजों की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि अन्य दो ने उस समय दम तोड़ दिया जब उन्हें दूसरे अस्पताल ले जाया जा रहा था।''

पटेल ने कहा, '' हादसे में कोई और घायल नहीं हुआ है। बाकी 26 मरीजों को अन्य अस्पतालों में भर्ती कराया गया है।'' उन्होंने बताया कि प्राथमिक जांच से प्रतीत होता है कि आग एक वेंटिलेटर में शॉट-सर्किट की वजह से लगी। निजी अस्पताल के पास एनओसी थी। साथ ही सभी अग्निशमन उपकरण अस्पताल में मौजूद थे। मुख्यमंत्री कार्यालय ने एक बयान में कहा कि वरिष्ठ आईएएस अधिकारी ए. के. राकेश मामले की जांच करेंगे।

दिल्ली पुलिस को केजरीवाल सरकार से लगा झटका, ठुकराई किसानों के लिए अस्थाई जेल बनाने की मांग

भारतीय रेलवे ने 31 दिसंबर तक जारी की फेस्टिवल के लिए स्पेशल ट्रेनें

SARS-CoV-2 वायरस मानव कोशिकाओं पर एक रिसेप्टर से चिपक जाता है: अध्ययन