फर्जी वीडियो और डीपफेक पर लगेगी लगाम ! मानसून सत्र में डिजिटल इंडिया बिल ला सकती है सरकार

फर्जी वीडियो और डीपफेक पर लगेगी लगाम ! मानसून सत्र में डिजिटल इंडिया बिल ला सकती है सरकार
Share:

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत सरकार डीपफेक कंटेंट के प्रसार से निपटने के लिए कानून लाने पर विचार कर रही है। इस प्रस्तावित विधेयक, जिसे संभावित रूप से डिजिटल इंडिया विधेयक नाम दिया गया है, का उद्देश्य YouTube जैसे प्लेटफ़ॉर्म पर पाए जाने वाले AI-जनरेटेड डीपफेक वीडियो और इसी तरह की सामग्री से उत्पन्न बढ़ते खतरे को संबोधित करना है। रिपोर्ट्स बताती हैं कि 24 जून से 3 जुलाई तक निर्धारित आगामी संसद सत्र के दौरान विधेयक के बारे में चर्चा शुरू हो सकती है, उसके बाद 22 जुलाई से 9 अगस्त तक मानसून सत्र होगा। सरकार विधेयक के प्रावधानों पर आम सहमति बनाने के लिए विभिन्न राजनीतिक दलों के साथ विचार-विमर्श करने का इरादा रखती है।

पिछले साल, केंद्रीय मंत्री राजीव चंद्रशेखर ने इस तरह के कानून को लागू करने की संभावना पर संकेत दिया था, और इसके कार्यान्वयन से पहले गहन चर्चा और परामर्श के महत्व पर जोर दिया था। डीपफेक तकनीक एक महत्वपूर्ण चिंता का विषय बन गई है क्योंकि इसमें भ्रामक सामग्री फैलाने की क्षमता है, जिसमें सार्वजनिक हस्तियों की विशेषता वाले मनगढ़ंत वीडियो शामिल हैं, जो व्यक्तियों की निजता का अतिक्रमण करते हैं। इन चिंताओं को दूर करने के लिए, इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (MeitY) ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म को किसी भी डीपफेक सामग्री को तुरंत हटाने का निर्देश दिया है, जिसका पालन न करने पर कानूनी परिणाम भुगतने पड़ सकते हैं।

प्रधानमंत्री मोदी ने डीपफेक कंटेंट के प्रचलन के बारे में गहरी चिंता व्यक्त की है और पत्रकारों से इसके खतरों के बारे में जनता को शिक्षित करने का आह्वान किया है। बॉलीवुड अभिनेत्रियों रश्मिका मंदाना, सारा तेंदुलकर, कैटरीना कैफ, ऐश्वर्या राय और काजोल सहित कई हस्तियां डीपफेक वीडियो का शिकार हुई हैं, जिसके कारण कानूनी कार्रवाई हुई है और प्रौद्योगिकी के दुरुपयोग के बारे में जागरूकता की तत्काल आवश्यकता को रेखांकित किया है। डीपफेक वीडियो के प्रसार के बाद रश्मिका मंदाना द्वारा दिल्ली पुलिस में एफआईआर दर्ज कराने का निर्णय प्रौद्योगिकी के दुरुपयोग के गंभीर प्रभावों को रेखांकित करता है, जो इस बढ़ते खतरे से निपटने के लिए नियामक उपायों की तत्काल आवश्यकता को दर्शाता है।

गौतस्कर सुफियान ने पुलिस पर की फायरिंग, जवाबी कार्रवाई में पाँव में लगी गोली, हुआ गिरफ्तार

AIADMK द्वारा विक्रवंडी विधानसभा उपचुनाव का बहिष्कार करने पर क्यों भड़के कांग्रेस नेता चिदंबरम ?

'केंद्र के हस्तक्षेप के बिना सुधार नहीं हो सकता..', दिल्ली जल संकट पर बोलीं मंत्री आतिशी मार्लेना

 

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
Most Popular
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -