जन्माष्टमी पर नहीं लगेगा इस वर्ष मेला, टूटेगी सदियों पुरानी परम्परा

उमरिया/ब्यूरो। जिले के विश्वविख्यात बांधवगढ टाइगर रिसर्व के किले पर स्थित भगवान बांधवधीश मंदिर में इस वर्ष जन्माष्टमी मेला नहीं लगेगा। आपको बता दे की इस वर्ष सदियों से चली आ रही परंपरा पर विराम लग गया है। बताया जा रहा है की जंगली हाथियों की मौजूदगी के कारण पार्क प्रबंधन ने यह निर्णय लिया है। 

उमारिया जिले के विश्वविख्यात बांधवगढ टाइगर रिजर्व के किले पर स्थित भगवान बांधवधीश रामजानकी मंदिर में इस वर्ष परंपरागत रूप से लगने वाला कृष्ण जन्माष्टमी का मेला आयोजित नहीं किया जाएगा। बांधवगढ टाइगर रिसर्व प्रबंधन ने आदेश जारी करते हुए मेले के आयोजन में इस साल से प्रतिबंध लगा दिया है। बता दें बांधवगढ किले पर स्थित भगवान बांधवधीश रामजानकी मंदिर में जन्माष्टमी के मौके पर मेले का आयोजन होता रहा है।

पार्क के मुख्य द्वार से श्रद्धालु पहाड़ पर पैदल चढ़कर मेले में मंदिर के दर्शन पूजा पाठ के लिए पंहुचते रहे हैं। कई सालों से जारी इस परंपरा को पार्क प्रबंधन ने कई बार रोकने की कोशिश की, लेकिन श्रद्धालुओं के दबाब से इसे रोका नहीं जा सका, लेकिन इस बार जंगली हाथियों की मौजूदगी का हवाला देते हुए पार्क प्रबंधन ने इस साल मेले के आयोजन में रोक लगा दी है। कृष्ण जन्माष्टमी के मौके पर आयोजित होने वाले इस मेले में देशभर के लाखों श्रद्धालु हिस्सा लेने पंहुचते हैं। जानकारी बीएस अन्नेगिरी एफडी-बीटीआर ने दी।

15 अगस्त को है बहुला चतुर्थी व्रत, यहाँ जानिए पूजा मुहूर्त और महत्व

एक ही शख्स से थे देवरानी-जेठानी के अवैध रिश्ते, बदनामी के डर से उठा लिया ये खौफनाक कदम

कारम डैम के संबंध में लगातार संपर्क बनाए हुए हैं मुख्यमंत्री शिवराज

न्यूज ट्रैक वीडियो

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -