फेसबुक की पेरेन्ट कंपनी META पर लगा 2265 करोड़ का जुर्माना, जानिए वजह ?

नई दिल्ली: फेसबुक की पेरेन्ट कंपनी मेटा (META) पर 265 मिलियन यूरो (भारतीय मुद्रा में करीब 2265 करोड़) का जुर्माना लगा है। META पर यह जुर्माना एक हैकिंग वेबसाइट पर 50 करोड़ से अधिक यूजर्स का डेटा लीक होने के कारण लगाया गया है। दरअसल, गत वर्ष 100 से भी अधिक देशों के यूजर्स की फेसबुक ID, नाम, फोन नंबर, उनका पता, जन्मतिथि और ईमेल समेत उपयोगकर्ता डेटा गत वर्ष ऑनलाइन मुहैया करवा दिए गए थे। अप्रैल, 2021 में इस मामले की छानबीन शुरू की गई थी।

रिपोर्ट के मुताबिक, जाँच पूरी होने के बाद META को ‘यूरोपियन डेटा प्राइवेसी पॉलिसी’ के उल्लंघन का दोषी पाया गया, जिसके बाद उस पर सजा के रूप में यह पेनल्टी लगाई गई। रिपोर्ट के अनुसार, जाँच में यूरोपीय संघ के डेटा संरक्षण कानूनों के 2 नियमों का उल्लंघन किया है। आयरलैंड सरकार की तरफ से फेसबुक को कई सुधारात्मक उपाय करने को भी कहा था। वहीं, पूरे मामले पर META का कहना है कि डेटा लीक मामले में उसने आयरलैंड के डेटा प्राइवेसी कमिश्नर (DPC) की जाँच में पूरा सहयोग किया है और अपने सिस्टम में भी परिवर्तन किया है। इन संशोधनों में फोन नंबर्स के इस्तेमाल वाले फीचर्स को हटाना भी शामिल था।

बता दें कि, यह पहली दफा नहीं है जब फेसबुक की पेरेन्ट कंपनी पर इतनी बड़ी रकम का जुर्माना लगा हो। यह चौथी बार है, जब आयरलैंड के डेटा प्राइवेसी कमिश्नर ने मेटा की किसी कंपनी पर जुर्माना ठोंका है। DPC, यूरोपीय यूनियन (ED) के अंदर META का प्रमुख प्राइवेसी रेगुलेटर भी है और इसने 13 अन्य सोशल मीडिया समूहों से भी पूछताछ की है। सितंबर, 2022 में META के इंस्टाग्राम पर 405 मिलियन यूरो का रिकॉर्ड जुर्माना लगा था, हालाँकि META इस जुर्माने के खिलाफ अपील करने पर विचार कर रहा है।

श्रीमद्भागवत गीता के श्लोकों से गूंजेगा कुरुक्षेत्र, राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने किया ‘गीता महोत्सव’ का शुभारंभ

NSA डोभाल ने बताया- क्या है जिहाद और क्या कहती है कुरान ?

पारसी नहीं, मुस्लिम है आफताब पूनावाला, इसी समुदाय से थे मोहम्मद अली जिन्ना

न्यूज ट्रैक वीडियो

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -