फेसबुक लाइव स्ट्रीमिंग को लेकर सामने आया ये लेटेस्ट अपडेट

फेसबुक लाइव स्ट्रीमिंग को लेकर सामने आया ये लेटेस्ट अपडेट

दो मस्जिदों में हुई आतंकी हमले की लाइव स्ट्रीमिंग फेसबुक ने न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च  घटना से सबक लेते हुए अब लाइव स्ट्रीमिंग और शेयरिंग को रोकने के लिए वन स्ट्राइक नीति बनाई है. फेसबुक ने कहा है कि फेसबुक के लाइव स्ट्रीमिंग फीचर की नीति तोड़ने वालों पर कंपनी प्रतिबंध लगाएगी. इसके अलावा अगर किसी यूजर ने अपने फेसबुक वॉल पर किसी हिंसक वीडियो की लाइव स्ट्रीमिंग की है, तो अब इस फीचर का दोबारा इस्तेमाल नहीं कर सकेंगे. क्राइस्टचर्च में हुए आतंकी हमले में 50 लोगों की मौत हुई थी. फेसबुक 'इंटीग्रिटी' के वाइस प्रेसिडेंट गाय रोसेन ने बताया कि मार्च महीने में क्राइस्टचर्च में दो मस्जिदों पर आंतकी हमले की लाइव स्ट्रीमिंग की गई थी. यहीं नहीं, सोशल मीडिया में कई यूजर्स ने शेयर भी इस हिंसक वारदात के  वीडियो को किया था.

Flipkart Big Shopping Day Sale में लैपटॉप्स पर मिल रहा इतने प्रतिशत डिस्काउंट

सेवा को सीमित इस तरह किया जाए कि नफरत फैलाने के लिए फेसबुक का इस्तेमाल  नहीं किया जा सके. इसके लिए कंपनी वन स्ट्राइक नीति को लागू करने जा रही है. इस नीति के लागू होने के बाद जो यूजर इसमें दी गईं शर्तों को तोड़ेगा उसके अकाउंट या फीचर्स पर प्रतिबंध लगा दिया जाएगा. रोसेन ने कहा कि फेसबुक पर कोई यूजर अगर किसी आतंकवादी संगठन के बयान का लिंक साझा करता है, तब ये भी फेसबुक की नीति का उल्लंघन माना जाएगा. कंपनी ऐसे व्यक्ति के फेसबुक अकाउंट पर प्रतिबंध लगाया जाएगा. रोसेन ने कहा कि न्यूजीलैंड में हुए आंतकी हमले के वीडियो को फेसबुक ने कई यूजर्स की वॉल से हटाया था, लेकिन कई यूजर्स ने इस आपत्तिजनक वीडियो का एडिटेड संस्करण साझा कर दिया. हमारे लिए चुनौती है. 

Redmi K20 को लेकर जनरल मैनेजर Lu Weibing बयान आया सामने

नफरत फैलाने वाले समूहों की पहचान ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में कर उन्हें अपने प्लेटफॉर्म से हटाने के लिए फेसबुक आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (एआई) का इस्तेमाल भी कर रहा है. ऐसे समूह फेसबुक की कोई भी सेवा का इस्तेमाल नहीं कर सकेंगे. फेसबुक ने पिछले दिनों घोषणा की थी कि वह श्वेत राष्ट्रवाद और श्वेत अलगाववाद की तारीफ या उसके समर्थन को प्रतिबंधित करेगा. फेसबुक और इंस्टाग्राम पर यह प्रतिबंध अगले हफ्ते लागू हो जाएगा. फेसबुक ने फोटो और वीडियो विश्लेषण तकनीक में सुधार करने के लिए अमेरिका के तीन विश्वविद्यालयों के साथ अनुबंध किया है. वो 75 लाख डॉलर (करीब 51 करोड़ रुपये) खर्च इसके लिए कर रहा है.

क्या OnePlus के इस स्मार्टफोन से Samsung Galaxy S10+ ले पाएंगा टक्कर

Twitter पर OnePlus 7 Pro को लेकर यूजर के रिएक्शन आएं सामने

Iphone पर इस सेल में मिल रहा 25000 रु का डिस्काउंट