Facebook पर नफरती कंटेंट फैलाने का आरोप, अब केंद्र सरकार ने मांगी एल्गोरिदम की डिटेल

नई दिल्ली: केंद्र की मोदी सरकार ने फेसबुक को पत्र लिखकर सोशल मीडिया कंपनी द्वारा प्रयोग किए जाने वाले एल्गोरिदम और प्रक्रियाओं की जानकारी देने के लिए कहा है. यह कदम इसलिए भी महत्व रखता है क्योंकि हाल ही में सामने आए फेसबुक के आंतरिक कागज़ात बताते हैं कि कंपनी अपने सबसे बड़े बाजार भारत में भ्रामक सूचना, नफरत वाले भाषण और हिंसा पर जश्न से संबंधित सामग्री की समस्या से दो-चार हो रही है.

अमेरिकी मीडिया में आई खबर के अनुसार, सोशल मीडिया के रिसर्चर्स ने रेखांकित किया है कि ऐसे समूह और पेज हैं जो ‘भ्रामक, भड़काऊ और मुस्लिम विरोधी सामग्री से भरे हुए हैं.’ घटनाक्रम से जुड़े सूत्रों के अनुसार, इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने फेसबुक को पत्र लिखकर कंपनी द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले एल्गोरिदम और प्रक्रियाओं के संबंध में जानकारी देने के लिए कहा है. उन्होंने कहा है कि सरकार ने फेसबुक से यूजर्स की सुरक्षा के लिए उठाए गए कदमों की जानकारी देने के लिए भी कहा है. 

इस साल की शुरुआत में भारत सरकार द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, देश में 53 करोड़ लोग व्हाट्सऐप का, 41 करोड़ फेसबुक का और 21 करोड़ लोग इंस्टाग्राम का उपयोग कर रहे हैं. बता दें कि इस साल की शुरुआत में भारत ने नए IT नियम लागू किए थे, जिसका उद्देश्य ट्विटर और फेसबुक समेत बड़ी तकनीकी कंपनियों के लिए अधिक जवाबदेही लाना है.

नवंबर में राष्ट्रीय उद्यानों तक मुफ्त पहुंच प्रदान करेगा दक्षिण अफ्रीका

1 नवंबर से सिमिलिपाल नेशनल पार्क जा सकेंगे पर्यटक

आम आदमी को बड़ा झटका! 120 के पार हुआ पेट्रोल का भाव

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -