इन 4 चीजों के कारण पिंपल्स से भर जाता है चेहरा

इन 4 चीजों के कारण पिंपल्स से भर जाता है चेहरा
Share:

चेहरे पर कभी-कभार मुंहासे या कील-मुंहासे होना आम बात है और ये आमतौर पर कुछ दिनों में अपने आप ठीक हो जाते हैं। हालांकि, कुछ लोगों को लगातार मुंहासे, मुंहासे और कई अन्य त्वचा संबंधी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। पारंपरिक घरेलू उपचार, DIY हैक्स और महंगे सौंदर्य उत्पादों जैसे कई उपायों को आजमाने के बावजूद, उन्हें अक्सर कोई सुधार नहीं दिखता। यह अस्वास्थ्यकर आहार संबंधी आदतों के कारण हो सकता है।

कुछ खाद्य पदार्थ मुंहासे, मुंहासे और व्हाइटहेड्स जैसी त्वचा संबंधी समस्याओं को बढ़ा सकते हैं। यहाँ कुछ सामान्य कारण दिए गए हैं:

तले हुए खाद्य पदार्थों का सेवन:
कई लोगों को समोसे, पकौड़े और अन्य तले हुए स्नैक्स जैसे तले हुए और तैलीय खाद्य पदार्थ खाने का शौक होता है। अस्वास्थ्यकर वजन बढ़ाने में योगदान देने के अलावा, ये खाद्य पदार्थ त्वचा पर अतिरिक्त तेल उत्पादन का कारण बन सकते हैं, जिसके परिणामस्वरूप मुंहासे और मुंहासे हो सकते हैं।

अधिक चीनी का सेवन:
अगर आपको मीठा खाने का शौक है और आप केक, कुकीज, मीठे पेय, कैंडी आदि का अधिक सेवन करते हैं, तो यह आपकी त्वचा संबंधी समस्याओं का कारण हो सकता है। चीनी का अधिक सेवन शरीर में सूजन को बढ़ाता है, जो मुंहासे जैसी त्वचा संबंधी समस्याओं के रूप में प्रकट हो सकता है।

हाई प्रोसेस्ड फूड्स से करें परहेज
आधुनिक जीवनशैली में अक्सर चिप्स, सफेद ब्रेड, इंस्टेंट नूडल्स आदि जैसे प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों पर निर्भरता शामिल होती है। ये खाद्य पदार्थ आमतौर पर अस्वास्थ्यकर वसा में उच्च होते हैं और आवश्यक पोषक तत्वों की कमी होती है, जो त्वचा की समस्याओं और समग्र स्वास्थ्य समस्याओं में योगदान करते हैं।

ज्यादा डेयरी प्रोडक्ट्स का सेवन
जबकि दूध और पनीर जैसे डेयरी उत्पाद पौष्टिक होते हैं, इनका अत्यधिक सेवन करने से त्वचा में तेल का उत्पादन बढ़ सकता है, जिससे संभावित रूप से मुंहासे हो सकते हैं। त्वचा संबंधी समस्याओं से ग्रस्त लोगों के लिए कम वसा वाले डेयरी उत्पाद या पौधे आधारित विकल्प चुनना फायदेमंद हो सकता है।

निष्कर्ष में, जबकि त्वचा की देखभाल की दिनचर्या और उपचार महत्वपूर्ण हैं, स्वस्थ त्वचा को बनाए रखने के लिए आहार संबंधी आदतों को संबोधित करना भी उतना ही महत्वपूर्ण है। तले हुए और प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों के अत्यधिक सेवन से बचना, चीनी का सेवन कम करना और डेयरी की खपत को संतुलित करना त्वचा की समस्याओं को प्रबंधित करने में काफी मदद कर सकता है। एक समग्र दृष्टिकोण जो उचित त्वचा देखभाल को स्वस्थ आहार के साथ जोड़ता है, साफ और चमकदार त्वचा प्राप्त करने की कुंजी है।

क्या आप भी भूल जाते हैं रोजाना की छोटी-छोटी बातें? तो जान लीजिये एक्सपर्ट्स की राय

सिर्फ जामुन ही नहीं बल्कि इसकी पत्तियां भी हैं फायदेमंद, सेहत के लिए मिलेंगे ये फायदे

आज ही अपना लें ये 3 आदतें, बुढ़ापे में भी रहेंगे तंदरुस्त

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -