ईमानदारी की मिसाल पेश की एक चाय बैचनें वालें नें

Feb 12 2016 07:56 AM
ईमानदारी की मिसाल पेश की एक चाय बैचनें वालें नें

ग्वालियर : आज कल कें परिवेश में जहाँ लोंग हर तरफ परेशान हैं कुछ अपनी मज़बूरी सें तो कुछ अपनी इक्छाओं कि वजह सें आज कें माहौल में जहाँ लोगों कें अन्दर किसी कि सहयता करने  का एहसास तक ख़त्म हो गया हैं यदि किसी का 100 का नोट भीं गिर जाता हैं तो लोंग उसें लौटाते नहीं हैं| ऐसे माहौल में किसी का लाखों रुपये कें गहनों सें भरा बेग लौटाकर एक चाये वालें नें ईमानदारी की मिसाल कायम की हैं| तथा इससे पता चलता हैं कि आज भीं दुनियाँ में ईमानदारी पूरी तरह सें ख़त्म नहीं हुईं हैं|

दरअसल यें घटना ग्वालियर की हैं जहाँ प्रमोद कुमार तथा उनके परिजन ग्वालियर स्टेशन में भोपाल जानें कें लियें गाड़ी का इन्तजार कर रहे थें| तथा गाड़ी आने पर वो गाड़ी पर सवार हो गयें किन्तु उनका जेवर तथा रुपयों का बेग स्टेशन में जिस बेंच पर वों बैठें थें वही पर छूट गयां| जिसकी उन्हें भनक भीं नहीं लगी| 

बैग कों ग्वालियर स्टेशन में चाय बैचनें वालें राजेश वर्मा उर्फ चुस्सी निवासी बिरलानगर नामक वैंडर नें देखा तथा एक दूसरें वैंडर सें उस बैग कें बारें में उसनें पूछा जब कोई भी व्यक्ति उसें नजर नहीं आया तों फिर उसनें बैग की सूचना जीआरपी आरक्षक विष्णु शर्मा कों दी| आरक्षक शर्मा नें कोईं भीं अगला कदम लेनें सें पहलें बैग कि आधी चैन खोली जिससें उन्हें बैग में जेवरों का डिब्बा दिखा| जिसकें बाद बैग कों थानें लें जाया गया| बाद में उन्होंने पूरा बैग खोला तथा उसकीं तलाशीं  ली|

जिसमें उन्हें एक पहचान पत्र तथा एक डायरी मिली | जिसमें लिखें हुयें नंबर कें आधार पर उन्होंने प्रमोद कुमार जी कों सुचना दी| और मजें की बात इस पूरे घटनाक्रम में यें थी कि प्रमोद कुमार और उनकें परिजन कों इस बात का पता भीं नहीं चला कि उनका बैग स्टेशन पर ही छूट गया हैं| आरक्षक विष्णु शर्मा कें द्वारा सूचना मिलने पर प्रमोद कुमार झाँसी में उतर गयें तथा सुबह करीब 5 बजें वापस ग्वालियर आकर अपना बैग प्राप्त किया|

बैग में सोने की 7 चूड़ी, दो अंगूठी, नथ, झुमके और 16640 स्र्पए रखे हुए थे| इस तरह एक वैंडर की ईमानदारी तथा जीआरपी कि तत्परता सें एक परिवार कों अपना खोया हुआ सामान मिल गया| आप भीं जब कहीं की यात्रा करें तों अपनें सामानों कें बैग कें अन्दर अपना कोई भीं एक पहचान पत्र अवश्य रख दें ताकि यदि कभी आपकें साथ ऐसी कोई घटना हों तो आपका सामान सुरक्षित आपके पास तक पहुंच जायें|