अब रिंग खोने का झंझट ख़त्म, ट्रेडिंग में है इंगेजमेंट पिअसिंग

अब तक आपने बॉडी पियर्सिंग के मामले में ईयर पियर्सिंग, नोज पियर्सिंग नैवेल पियर्सिंग , आईब्रोज पियर्सिंग तक के बारे में देखा और सुना होगा लेकिन नए जमाने के लवबर्ड्स के बीच अब फेमस हो गया है एंगेजमेंट पिअसिंग. यह बेहद अनोखा और पेनफुल  तरीका है एक दूसरे को यह दिखाने का कि वे प्यार में कितने कमिटेड हैं.

इंगेजमेंट पियर्सिंग एक तरह की स्किन पियर्सिंग होती है जो जेवेलरी  के 2 पीस से बनी होती है. इसमें जेवेलरी का एक हिस्सा मेटल का फ्लैट टुकड़ा होता है जो स्किन के अंदर की सरफेस में घुसाया जाता है जबकि ऊपर दिखने वाला एक स्टड जिसे बॉडी पिअसिंग के किसी भी दूसरी जेवेलरी की तरह चेंज किया जा सकता है. हालांकि स्किन स्पेशलिस्ट और डर्मीटोलॉजिस्ट  की मानें तो इस तरह से उंगली में छेद करवाकर इंगेजमेंट रिंग पहनना सेहत के लिए खतरनाक हो सकता है.

ऐसा इसलिए क्योंकि आमतौर पर डर्मल पियर्सिंग यानी स्किन पर करवाया जाने वाला किसी भी तरह का छेद बिना लोकल ऐनिस्थीसिया के किया जाता है और यह बेहद पेनफुल  होता है और एक बार छेद हो जाने के बाद भी कई तरह के कॉम्प्लिकेशन्स हो सकते हैं. साथ ही एक बार पियर्सिंग हो जाए तो इसे हटवाना भी एक मुश्किल काम है.

गर्लफ्रेंड की ये इच्छाएं हमेशा रह जाती हैं अधूरी

सच्चा प्यार होने के बाद लड़कों के स्वभाव में आते हैं यह बदलाव

बालों को लंबा घना और काला बनाता है करी पत्ता

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -