यूरिक एसिड में करे आंवले और एलोवेरा का सेवन

यूरिक ऐसिड एक तरह से हड्डियों के जोड़ों के बीच जमने वाली एसिड़ क्रिस्टल है. जो कि चलने फिरने में चुभन जकड़न से दर्द होता है. जिसे यूरिक एसिड कहते हैं. शोध में यूरिक एसिड को शरीर में जमने वाले कार्बन हाइड्रोजन आक्सीजन नाइट्रोजन सी-5, एच-4, एन-4, ओ-3 का समायोजक माना जाता है. यूरिक एसिड समय पर नियत्रंण करना अति जरूरी है. यूरिक एसिड बढ़ने पर समय पर उपचार ना करने से जोड़ों गाठों का दर्द, गठिया रोग, किड़नी स्टोन, डायबिटीज, रक्त विकार होने की संभावनाएं ज्यादा बढ़ जाती है. रक्त में यूरिक एसिड की मात्रा को नियत्रंण करना अति जरूरी है. 

 यूरिक एसिड के लक्षण :

पैरो-जोड़ों में दर्द होना.,पैर एडियों में दर्द रहना.,गांठों में सूजन,जोड़ों में सुबह शाम तेज दर्द कम-ज्यादा होना.एक स्थान पर देर तक बैठने पर उठने में पैरों एड़ियों में सहनीय दर्द. फिर दर्द सामन्य हो जाना.,पैरों, जोड़ो, उगलियों, गांठों में सूजन होना.,शर्करा लेबल बढ़ना. इस तरह की कोई भी समस्या होने पर तुरन्त यूरिक एसिड जांच करवायें.

यूरिक एसिड नियत्रंण करने के तरीके

 1. यूरिक एसिड बढ़ने पर हाईड्रालिक फाइबर युक्त आहार खायें. जिसमें पालक, ब्रोकली, ओट्स, दलिया, इसबगोल भूसी फायदेमंद हैं.

2. आंवला रस और एलोवेरा रस मिश्रण कर सुबह शाम खाने से 10 मिनट पहले पीने से यूरिक एसिड कम करने में सक्षम है.

3. टमाटर और अंगूर का जूस पीने से यूरिक एसिड तेजी से कम करने में सक्षम है.

4. तीनो वक्त खाना खाने के 5 मिनट बाद 1 चम्मच अलसी के बीज का बारीक चबाकर खाने से भोजन पाचन क्रिया में यूरिक ऐसिड नहीं बनता.

5. यूरिक एसिड बढ़ने पर खाने से 15 पहले अखरोट खाने से पाचन क्रिया शर्करा को ऐमिनो एसिड नियत्रंण करती है. जोकि प्रोटीन को यूरिक एसिड़ में बदलने से रोकने में सहायक है.

इन तरीको से पाए बढ़ते कोलोस्ट्रोल से छुटकारा

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -