गरीबी हटाने के लिए प्रति व्यक्ति आय 4 लाख करनी होगी

नई दिल्ली: रिजर्व बैंक के गवर्नर रघुराम राजन का कहना है कि यदि देश से गरीबी हटानी है तो प्रति व्यक्ति आय 4 लाख रु. करनी होगी. पत्रकारों से चर्चा में उन्होंने बताया कि अभी हमारी अर्थ व्यवस्था 1 लाख रु. प्रति व्यक्ति वाली है|

सिंगापुर से तुलना करते हुए कहा कि वहां प्रति व्यक्ति आय पचास हजार रु. है हमारी अर्थव्यवस्था अभी कमजोर है और हमें हरेक के आंसू पोंछने हैं. हमें बहुत कुछ करना होगा. राजन ने कहा हर कोई व्यक्ति 6-7 हजार डॉलर मध्यम आय चाहता है. इस स्तर पर आने के बाद ही गरीबी से निपटा जा सकेगा. इसके लिए हमे दो दशकों तक शानदार काम करना होगा|

फ़िलहाल सभी मुद्दे महंगाई रोकने और बैंक बैलेंस शीट को साफ सुथरा रखने में जुटे हैं. आगे चलकर गरीब वर्ग को अर्थ व्यवस्था से जोड़ने से लेकर बैंक सुविधा देने और अन्य मुद्दे शामिल हो जाएंगे|

राजन का कहना था कि बाजार में उदारीकरण को लेकर हमारी चिंता की वजह बाहरी उतार-चढ़ाव से पैदा होने वाले खतरों का डर है. जैसे ही दुनिया के बाजार सामान्य हो जाएंगे हम और ज्यादा उदारीकरण लाने की स्तिथि में होंगे. इस वर्ष जीडीपी की दर 7.6 रहने के अनुमान पर कहा कि कई लोगों को लगता है कि हमने अपनी आर्थिक रफ्तार को कम आंका|

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -