लोकसभा के साथ नहीं होंगे जम्मू कश्मीर के विधानसभा चुनाव, उमर अब्‍दुल्‍ला ने उठाए सवाल

श्रीनगर: निर्वाचन आयोग ने 11 अप्रैल से 19 मई तक होने वाले आम चुनाव के साथ ही आंध्र प्रदेश, अरूणाचल प्रदेश, ओडिशा और सिक्किम में भी विधानसभा चुनाव कराने का निर्णय लिया गया है. हालांकि इस दौरान जम्मू कश्मीर में सुरक्षा कारणों से विधानसभा चुनाव नहीं कराया जाएगा. मुख्‍य चुनाव आयुक्‍त सुनील अरोड़ा ने साफ़ किया है कि जम्मू-कश्मीर में विधानसभा चुनाव, आम चुनावों के साथ आयोजित नहीं होंगे.

मुझे कोई फ़र्क़ नहीं पड़ता, कि कोई मेरे बारे में क्या सोचता है - असाउद्दीन ओवैसी

वहीं इस फैसले पर एनसीपी के नेता और पूर्व सीएम उमर अब्‍दुल्‍ला ने सवाल खड़े किए हैं. उल्लेखनीय है कि गत वर्ष नवंबर में जम्मू कश्मीर विधानसभा भंग किए जाने के बाद मई से पूर्व घाटी में विधानसभा चुनाव कराना अनिवार्य है. जम्मू कश्मीर में सुरक्षा संबंधी जटिल हालात को ध्यान में रखते हुए प्रदेश में फिलहाल लोकसभा सीटों पर ही चुनाव कराया जाएगा. उन्होंने कहा है कि आयोग ने जम्मू कश्मीर में विधानसभा चुनाव, लोकसभा चुनाव के साथ करने के लिए पर्याप्त संख्या में केन्द्रीय सुरक्षा बलों की उपलब्धता नहीं हो पाने की वजह से प्रदेश में सिर्फ लोकसभा चुनाव कार्य्रकम ही घोषित करने का फैसला लिया गया है. 

आंध्र प्रदेश विधानसभा चुनाव का कार्यक्रम तय, इस तारिख को होगा मतदान

प्रदेश में सुरक्षा हालात की संवेदनशीलता का हवाला देते हुए मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने कहा है कि अनंतनाग लोकसभा सीट पर तीन चरणों में मतदान होगा. जम्मू कश्मीर में विधानसभा का छह वर्ष का कार्यकाल 16 मार्च 2021 तक निर्धारित था, किन्तु गत वर्ष राज्य में सत्तारूढ़ पीडीपी-भाजपा गठबंधन टूटने की वजह से विधानसभा भंग कर दी गई थी. संवैधानिक प्रावधानों के मुताबिक जम्मू कश्मीर को छोड़कर अन्य सभी प्रदेशों की विधानसभा का कार्यकाल पांच साल का होता है.

खबरें और भी:-

लोकसभा चुनाव: बिहार का पेंच सुलझाने के लिए कांग्रेस करेगी राजद से चर्चा

लोकसभा चुनाव का पूरा कार्यक्रम, जानिए राज्यवार मतदान की तिथि

लोकसभा चुनाव का कार्यक्रम तय, निर्वाचन आयोग ने प्रेस वार्ता में किया ऐलान

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -