स्वामी के साथ शक्ति प्रदर्शन करना अखिलेश को पड़ा महंगा, EC ने दिए जांच के आदेश

लखनऊ: समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व सीएम अखिलेश यादव को स्वामी प्रसाद मौर्य के साथ शक्ति प्रदर्शन करना भारी पड़ता नज़र आ रहा है। दरअसल, लखनऊ स्थित सपा हेडक्वार्टर पर सदस्यता समारोह के दौरान जुटी हजारों कार्यकर्ताओं की भीड़ पर निर्वाचन आयोग ने संज्ञान लिया है। चुनाव आयोग ने जिला चुनाव अधिकारी डीएम को जांच के आदेश दिए है। 

इसके बाद लखनऊ के जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश ने एक टीम को भेजकर पूरे मामले की वीडियोग्राफी कराई है। डीएम अभिषेक का कहना है कि सपा का कार्यक्रम बिना इजाजत के हुआ है। सूचना मिलने पर मजिस्ट्रेट के साथ पुलिस टीम को सपा हेडक्वार्टर भेजा गया है। रिपोर्ट के आधार पर आवश्यक कार्रवाई की जाएगी। कोरोना की तीसरी लहर के बीच हो रहे यूपी विधानसभा चुनाव में संक्रमण की रोकथाम को लेकर निर्वाचन आयोग ने दिशानिर्देश जारी किए हैं। 

EC ने सभी दलों को इन दिशानिर्देशों का पालन करते हुए चुनाव प्रचार करना है, पर आज सपा हेडक्वार्टर पर सदस्यता समारोह में हजारों कार्यकर्ताओं की भीड़ इकठ्ठा हो गई। दरअसल, आज भाजपा से आने वाले स्‍वामी प्रसाद मौर्य, धर्म सिंह सैनी सहित छह विधायक सपा को ज्‍वाइन कर रहे थे। इस अवसर पर सपा की ओर से वर्चुअल रैली का आयोजन किया गया था। 

बहन के लिए कैंपेन नहीं करेंगे सोनू सूद, कहा- 'मेरा कोई लेना-देना नहीं है'

यूपी चुनाव में पीएम मोदी ने खुद संभाला मोर्चा, टिकट बंटवारे पर बैठक में हुए शामिल

यूपी चुनाव: क्या अयोध्या में 'मोदी की काशी' जैसा करिश्मा कर पाएंगे योगी आदित्यनाथ ?

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -