दिल्ली सरकार के नए प्लान के आगे दम तोड़ सकता है कोरोना वायरस

Jul 10 2020 11:55 AM
दिल्ली सरकार के नए प्लान के आगे दम तोड़ सकता है कोरोना वायरस

दिल्ली में कम से कम 20 दिन से कोरोना संक्रमण कम ​होने का नाम नही ले रहा है. अच्छी योजना और सबको साथ लेकर चलने जैसे 8 सूत्रीय योजना के तहत दिल्ली सरकार ने तेजी से बढ़ते कोरोना मामलों पर लगाम लगाने का प्रयास किया है. इसके अलावा दिल्ली की रिकवरी दर भी 72 प्रतिशत से ऊपर है और मौत का आंकड़ा हर रोज कम होता जा रहा है. जोकि सरकार और जनता के लिए राहत की बात है.

विकास दुबे के एनकाउंटर पर सियासत तेज, अखिलेश बोले - कार नहीं पलटी, बल्कि सरकार पलटने से बचाई गई

मई में कोरोना संक्रमण बेहद तेजी से फैल रहा है. सरकार ने अंदाजा लगाया था कि जुलाई के समाप्ति तक दिल्ली में संक्रमण का स्तर 5 लाख के पार पहुंच सकता हैं. जिसका मुकाबला करने के लिए सरकार ने 8 सूत्रीय योजना तैयार की है. ये उसी का परिणाम है कि अब परिस्थितियां में परिवर्तन आ  रहा है. इसके अलावा बड़ी तादात में ऐसे भी मरीज मिले जिनमें कोरोना के लक्षण नहीं थे, किन्तु टेस्ट रिपोर्ट आने पर कोरोना संक्रमण निकला. कई मरीजों में तो कोरोना वायरस का अलग-अलग प्रभाव देखने को मिला है. किन्तु दिल्ली सरकार के 8 के दम से ‘बहरूपिया’ वायरस ‘बे-दम’ होकर दम तोड़ता नजर आ रहा है.

इस उम्र के लोगों की भारत में कोरोना से हुई सबसे अधिक मौत

राजधानी में पांच जून तक हर दिन औसतन 6 हजार लोगों का टेस्ट हो रहा था. टेस्ट बढ़ाने के लिए सरकार ने केंद्र से मदद मांगी है. जिसके बाद केंद्र सरकार ने 6 लाख एंटीजन किट उपलब्ध कराई है.  सरकार को लगता है, टेस्ट को और अधिक संख्या में करने की आवश्यकता है. सभी 44 प्राइवेट लैब को भी कोरोना जांच की संख्या बढ़ाने के निर्देश मिले है. अब हर दिन 20 हजार टेस्ट हो रहे हैं. जांच संख्या बढ़ाने के बाद भी कोरोना संक्रमण के मामले कम आ रहे हैं. इससे वायरस का संक्रमण दर घटकर 10 प्रतिशत तक हो गई है. 

भारत के इस छोटे से शहर में बना एशिया का सबसे बड़ा सोलर प्लांट, आज पीएम खुद करेंगे उद्घाटन

सुशांत आत्महत्या के केस में सुब्रमण्यम स्वामी ने उठाया ये बड़ा कदम

कोरोना के बीच फंसा रक्षाबंधन, जानिए फायदेमंद या नुकसानदायक ?