पहली बार मिस्त्र ने कबूला कि रुसी विमान को ISIS ने ही मार गिराया था

Feb 25 2016 10:58 AM
पहली बार मिस्त्र ने कबूला कि रुसी विमान को ISIS ने ही मार गिराया था

काहिरा : लाख आनाकानी और अटकलों के बाद आखिरकार मिस्त्र ने इस बात को कबूल लिया है कि रुसी विमान को आईएसआईएस ने ही मार गिराया था। मिस्त्र के राष्ट्रपति अब्दुल फतह सीसी ने स्वीकारा है कि बीते वर्ष 31 अक्टूबर को रुसी यात्री विमान में हुए हादसे को आईएसआईएस ने अंजाम दिया था। इससे पहले तक मिस्त्र रुस के इस दावे को ऩकारता आया है।

सीसी ने टीवी के जरिए दिए अपने संबोधन में कहा कि क्या आतकवाद का अंत हो गया है, नहीं ऐसा नहीं हुआ है, लेकिन ऐसा हो सकता है, तब जब हम सब एकजुट होंगे। आगे उन्होने अपने सवाल में पूछा कि क्या विमान को मार गिराए जाने के जिम्मेदार व्यक्ति का मकसद मिस्त्र के पर्यटन उद्दोग को नुकसान पहुंचाना था, नहीं मकसद तो रुस, इटली व दूसरे देशों के संबंधों को बिगड़ाना था।

रुसी विमान ए-321 को मार गिराए जाने के बाद से यह पहला मौका है, जू सार्वजनिक तौर पर सीसी ने कबूला है कि हमला आईएसआईएस ने किया है। विमान के मलवे प्रायद्वीप में गिरे पाए गए थे। विमान में सवार कुल 224 लोग की जानों चली गई थी। आईएसआईएस ने तब भी विमान को मार गिराने का दवा किया था, लेकिन सीसी ने कहा था कि यह एक सस्ता प्रचार है।