पोंजी घोटाले में ED का बड़ा एक्शन, मुंबई से 37 करोड़ कैश जब्त

पोंजी घोटाले में ED का बड़ा एक्शन, मुंबई से 37 करोड़ कैश जब्त
Share:

मुंबई: प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने मुंबई स्थित एक वित्तीय सलाहकार और उसकी कंपनी के खिलाफ धन शोधन जांच के तहत बैंक और डीमैट खाते में जमा राशि के अलावा लगभग 37 करोड़ रुपये की नकदी जब्त की है। इन पर पोंजी योजना के जरिए निवेशकों से 600 करोड़ रुपये ठगने का आरोप है। संघीय एजेंसी ने रविवार को कहा कि यह कार्रवाई 21 जून को महानगर में अंबर दलाल और उनकी कंपनी रिट्ज कंसल्टेंसी सर्विसेज के खिलाफ छापेमारी के बाद की गई।

प्रवर्तन निदेशालय के मनी लॉन्ड्रिंग का मामला मुंबई पुलिस की एफआईआर से उपजा है, जिसमें चार्टर्ड अकाउंटेंट और उनकी कंपनी पर "एक संदिग्ध पोंजी स्कीम के जरिए निवेशकों से पैसे लेने का आरोप लगाया गया था, जिसमें उच्च रिटर्न का वादा किया गया था।" शुरुआती रिटर्न देने के बाद दलाल इस पैसे को लेकर "फरार" हो गया। ईडी ने एक बयान में कहा कि पता चला है कि दलाल ने 1,300 निवेशकों से 600 करोड़ रुपये से अधिक जुटाए। इसमें कहा गया है कि उन्हें मुंबई पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा ने गिरफ्तार किया है और फिलहाल वह न्यायिक हिरासत में हैं।

ED ने आरोप लगाया कि दलाल ने निवेशकों से यह कहकर धन जुटाया कि उसने सोना, चांदी, कच्चा तेल, प्राकृतिक गैस, जस्ता, सीसा, निकल, तांबा, एल्युमीनियम जैसी नौ वस्तुओं और उनके व्यापार में धन का निवेश किया है, जिससे पूंजी सुरक्षित रहेगी और उसने अपने निवेशकों को 18-22 प्रतिशत वार्षिक रिटर्न देने का वादा किया। इसमें कहा गया है कि इसी कार्यप्रणाली का उपयोग करते हुए उसने संयुक्त अरब अमीरात और अमेरिका के निवेशकों से भी धन जुटाया।

तलाशी अभियान में स्टॉकब्रोकरों, निवेश सलाहकारों के एक नेटवर्क का पता चला जो कमीशन के बदले ग्राहकों को लाते थे। यह भी पता चला है कि नए निवेश से प्राप्त भुगतान का उपयोग पुराने निवेशकों को मासिक रिटर्न देने के लिए किया जा रहा था। ईडी ने कहा कि दलाल ने रिट्ज के खाते में प्राप्त धनराशि को निजी खातों में स्थानांतरित कर दिया, जिसे बाद में परिवार के सदस्यों के खातों में भेज दिया गया और संपत्ति बनाने के लिए उपयोग किया गया। उन्होंने करीब 51 करोड़ रुपए अपने निजी खातों में जमा किए। इन पैसों का इस्तेमाल भारत और विदेश में संपत्तियां खरीदने में किया गया। ईडी ने भारत में आठ और विदेश में दो ऐसी अचल संपत्तियों की पहचान की है।

उन्होंने कहा, "बैंकिंग चैनलों के अलावा, नकदी के माध्यम से भी निवेश किया गया, जिसे बाद में मुंबई स्थित ज्वैलर्स के साथ मिलीभगत करके समायोजन प्रविष्टियों के रूप में पुस्तकों में दर्ज किया गया।" ईडी ने कहा, "ऐसे नकद-आधारित निवेशों पर रिटर्न हवाला ऑपरेटरों द्वारा भारत और विदेश (यूके, यूएई सहित) के निवेशकों को दिया गया।"  इसमें कहा गया है कि 37 करोड़ रुपये की नकदी, बैंक जमा, डीमैट खाते फ्रीज कर दिए गए हैं और तलाशी के दौरान विभिन्न आपत्तिजनक दस्तावेज, डिजिटल उपकरण जब्त किए गए हैं।

सावधान: ऐसे भी हो सकते हैं ट्रेन हादसे ! रेलवे की सिग्नल केबल काटने वाले मुनव्वर और अब्बास अली गिरफ्तार

नौवीं पुण्यतिथि पर स्वर्गीय दिलीप सिंह भूरिया को दी गई श्रद्धांजलि, पद्म विभूषण से सम्मानित करने की उठी मांग

तमिलनाडु में जहरीली शराब से 57 मौतों पर कांग्रेस क्यों खामोश ? नड्डा ने खड़गे को लिखा पत्र

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -