हेल्दी भोजन करे और हेल्दी रहे, जानिये अच्छे स्वास्थ के नुस्खे

आपने ध्यान दिया हो तो कभी-कभी अचानक से बहुत भूख लगती है और ऐसा लगता है की हम कुछ भी खा ले. लेकिन ऐसा होना स्वास्थ्य की दृष्टि से सही नहीं माना जाता है. क्यूंकि कुछ भी खा लेने का हमारे स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव होता है और हमे कई समस्याओ का सामना करना पड़ता है जैसे मोटापे, बदहजमी, अपच. इसलिए जब भी भूख लगे तो कुछ ऐसा खाए जो हेल्थ के लिए भी अच्छा हो और आपकी भूख भी शांत हो जाए.

भूख का एहसास मस्तिष्क के हाइपोथैलेमस नामक हिस्से से प्रारम्भ होता है जब उसमे से एक विशेष प्रकार का हार्माेन निकलता है. भूख प्रारम्भ में तीस सेकंड के आवेग से महसूस होती है इसका प्रभाव लगातार 30 - 45 मिनट तक रहता है. इसके बाद भूख 30-150 मिनटों की अवधि में कम होने लगती है और धीरे धीरे ख़त्म होने लगती है. हमारे शरीर की पाचन क्रिया भूख पर निर्भर करती है. भूख की तीव्रता जितनी ज्यादा होगी, पाचन-क्रिया भी उतनी ही अच्छी होगी. पाचन-क्रिया ठीक होगी तो शरीर में रक्त की मात्रा व संतुलन बना रहता है.इस संतुलन को बनाये रखने के लिए पाचन क्षमता का अच्छा होना जरुरी है.

अधिक मात्रा में पानी का सेवन करे

पानी हमारे शरीर के लिए बहुत महत्वपूर्ण है.पानी शरीर को अंदर से साफ रखता है और अधिक खाने से रोकता है. कई लोग भूख और प्यास में अंतर नहीं समझ पाते और प्यास को भूख समझकर अतिरिक्त भोजन कर लेते है जो नुकसानदायक है.कभी कभी प्रयाप्त जल की मात्रा भी भूख को नियंत्रित कर लेती है.अगली बार जब आपको भूख लगे और खाने का समय न हो तो एक गिलास पानी पीकर देख लें.भूख ख़त्म हो जायेगी.

भोजन के बीच में अधिक अंतराल न हो

भोजन में सिमित अंतराल होना चाहिए. अधिक अंतराल में भोजन करने पर ज्यादा भुख लगती है और कुछ भी खाने का मन करता है. इसके स्थान पर हर चार घंटे के बाद कोई हैल्दी नाश्ता जैसे फल, अंकुरित अनाज, उपमा, इडली, डोसा या सूखे मेवे खाए ये आपको हेल्दी भी बनाये रखेंगे और भूख भी कंट्रोल हो जायेगी.

आराम-आराम से करे भोजन

अगर हमे बहुत तेज भूख लगती है तो हम जल्दी जल्दी खाना शुरू कर देते है. ऐसा कहा जाता है कि भोजन को जितना चबा कर खाया जाए वह उतना ही हेल्दी होता है.ऐसा करने पर आपका खाना पेट में जाकर अच्छी तरह पचेगा और उसके सभी पोषक तत्व शरीर को ऊर्जा देगें,जिससे जल्दी जल्दी भूख लगने की समस्या दूर हो जाएगी. इसके अलावा अधिक चाय पीने की आदत से दूरी बनाये रखे. चाय आपकी भूख को कुछ समय के लिए ख़त्म कर देती है लेकिन कुछ समय के बाद फिर से खाने की इच्छा होने लगती है.चाय पीने से रक्त में शुगर लेवल की अधिकता होती है जो शरीर के लिए हानिकारक होती है.

काइजेन डाइट भी है एक सेहतमंद उपाय

जापानी सिद्धांत काइजेन पर आधारित जेन डाइट अपने आप में ही एक बेहतरीन अनोखा उपाय है. काइजेन का मतलब होता है सुधार. इसके अंदर आप अपने भोजन के चुनाव के लिए काफी सजग रहते है. इसके लिए आपको चीनी, प्रोसेस्ड फूड और तले-भुने भोज नसे दूरी बना कर रखनी होती है. या बिलकुल न्यूनतम मात्रा में सेवन करे ताकि बढ़े हुए वजन को नियंत्रित करने में सहायक हो सके.लेकिन इसे रूटीन में लाने से पहले विशेषज्ञों की सलाह जरूर ले.

प्रोटीन से भरपूर हो डाइट

भोजन में प्रोटीन का बहुत महत्वपूर्ण स्थान है.शरीर को कार्बाेहाइड्रेट और वसा को कम समय में आसानी से पचा सकता है लेकिन प्रोटीन पाचन क्रिया में समय लेता जिससे भूख का एहसास नहीं होता है.

फाइबर होता हेल्थ के लिए परफेक्ट

फाइबर की मात्रा शरीर के लिए बहुत फायदेमंद होती है. शरीर में जितना फाइबर होता होता पाचन तंत्र उतनी ही अच्छी तरह से कार्य करता है.फाइबर या रेशे से भरपूर अनाज, सब्जियां और फल पाचन में अधिक समय लेते हैं जबकि मैदा से बने खाद्य पदार्थ और बिस्किट आदि जल्दी आसानी से पच जाते है .यही वजह है की हम एक साथ बहुत सारी आलू की चिप्स खा सकते है लेकिन उतनी ज्यादा सब्जिया नहीं खा पाते है. इसलिए भोजन में सलाद व मौसमी सब्जियों को भी भी आश्यक रूप से शामिल करे ये आपको स्वस्थ रखने में बेहद मददगार साबित होगी. भूख लगने पर जूस पीना ज्याद लाभकारी होता है क्यूंकि फाइबर की भरपूर मात्रा से भूख नहीं लगती है.

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -