छत्तीसगढ़ : आखिर क्यों राज्य की सीमा पर प्रवासी मजदूरों को रोक रहे पुलिसकर्मी ?

लॉकडाउन और कोरोना संकट के बीच दूसरे राज्यों से छत्तीसगढ़ लौटने वालों के लिए राज्य सरकार ने ई-पास अनिवार्य कर दिया है. जो लोग बिना ई-पास के आ रहे हैं उन्हें सीमा पर ही रोका जा रहा है. हर दिन लगभग दो-ढाई हजार लोग महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश, ओडिशा, झारखंड से छत्तीसगढ़ की सीमा पर पहुंच रहे हैं और प्रवेश की अनुमति नहीं मिलने पर परेशान हो रहे हैं. 

मुंबई में ईमारत का एक हिस्सा ढहा, NDRF ने 14 लोगों को किया रेस्क्यू

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि इन लोगों ने यात्रा शुरू करने से पहले अपने जिला कलेक्टर से अनुमति ली थी लेकिन राज्य में उनको यह कहकर प्रवेश नहीं दिया जा रहा है कि उनके पास राज्य सरकार द्वारा जारी ई-पास नहीं है. उनको छत्तीसगढ़ के जिस जिले में जाना है वहां के कलेक्टर से भी ई-पास लेना होगा. 

आईएएस के चयन में जुड़ा नया नियम, जाने

इस मामले को लेकर राज्य के अफसरों का कहना है कि छत्तीसगढ़ आने के लिए राज्य सरकार से अनुमति लेना जरूरी है. वहीं, राज्य की सीमा पर फंसे लोगों का कहना है कि उन्होंने पहले छत्तीसगढ़ के ई-पास के लिए आवेदन किया था लेकिन उनका अनुरोध रद्द कर दिया गया और इस संबंध में कोई जानकारी भी नहीं दी गई. वही, लोगों ने कहा कि इसके बाद उन्होंने स्थानीय जिला कलेक्टर के पास आवेदन किया. अनुमति मिलने के बाद वे छत्तीसगढ़ के लिए निकल पड़े लेकिन अपने ही राज्य की सीमा पर रोक दिए गए. हालांकि, सूत्रों के अनुसार पड़ोसी राज्यों में संक्रमण की स्थिति देखते हुए राज्य सरकार ने कलेक्टरों को किसी भी हाल में दूसरे राज्यों से आने वालों को छत्तीसगढ़ की सीमा में प्रवेश नहीं करने का अघोषित आदेश दे रखा है. 

इस शहर में तबाही मचा रहा कोरोना, सबसे पहले लग सकता है लॉकडाउन 4

सिक्किम बॉर्डर पर बढ़ा तनाव, भारतीय और चीनी सैनिकों में भिड़ंत की खबर

चौतरफा हमलों में घिरी सीएम ममता, विपक्ष ने लॉन्च किया 'भय पेयेछे ममता' अभियान

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -