डस्ट एलर्जी से हो रही बीमारियों से ऐसे पाएं निजात

डस्ट एलर्जी से हो रही बीमारियों से ऐसे पाएं निजात

अक्सर देखा जाता हैं कि कई लोगों को धूल-मिट्टी के संपर्क में आते ही जुखाम हो जाता हैं और छींक आना शुरू हो जाती हैं, डस्ट एलर्जी से आपको कई बार बीमारी का शिकार होना पड़ता है और इस तरह की एलर्जी से बार बार सर्दी जुखाम होता रहता है. कभी तो अचानक मौसम में बदलाव के साथ ही यह समस्या होने लगती हैं जिससे सांस लेने में भी दिक्कत महसूस होने लगती हैं. ऐसे में जरूरी है कि अपने शरीर को इस बीमारी से लड़ने के लिए तैयार किया जाए और इससे परेशान होने से बचा जाए. इसके लिए हम आपको कुछ टिप्स बताने जा रहे हैं. 

सेब का सिरका
एक गिलास पानी में 1 चम्मच एप्पल साइडर सिरका मिलाएं और दिन में तीन बार इसका सेवन करें. यह पेय कफ यानी बलगम के बनने की प्रक्रिया को तेजी से धीमा करता है और लसीका प्रणाली को साफ करता है.

भाप यानी स्टीम
भाप लेना धूल एलर्जी के इलाज सबसे कारगर और अचूक तरीका है. कम से कम 10 मिनट के लिए भाप लें ये आपके नाक से लेकर फेफड़े तक काम करता है. इससे कंजेशन खत्म होता है और खुल कर सांस लिया जा सकता है.

विटामिन सी 
जिद्दी डस्ट एलर्जी से राहत पाने के लिए यह सबसे सरल और आसान तरीका है आप विटामिन सी का इंटेक बढ़ा दें. खट्टे फल जैसे संतरे और मीठे नीबू के फल विटामिन सी से भरपूर होते हैं और ये सफेद रक्त कोशिकाओं द्वारा होने वाले हिस्टामाइन के स्राव को रोकते जिससे शरीर में ब्लॉकेज बढ़ती है. विटामिन सी नाक के स्राव और ब्लॉकेज को भी कम करता है.

शहद
शहद में वो गुण होता है जो न केवल एलर्जी को खत्म कर आपको जुकाम और छींक से राहत पहुंचाता है बल्कि ये आपके गले में होने वाले खराश और श्वांस नली में आई सूजन को भी सही करता है. ये ल्युब्रिकेंट की तरह खराश और खांसी को सही करने का काम करता है. जब भी आपको ऐसा लगे कि आपको डस्ट एलर्जी हो रही तो आप एक चम्मच शहद पी लें. इसके बाद कुल्ला करें लेंकिन पानी न पीएं.

प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए खास और जरुरी है सरसों का साग

पैरों की दिक्कतें देती हैं बिमारियों के संकेत, पहचाने

13 दिन बाद भी जेटली की हालत में कोई सुधार नहीं, AIIMS में लगा नेताओं का तांता