दुनियां‬ बसाते रहे

दुनियां‬ बसाते रहे

म ‪उम्मीदों‬ की
‎दुनियां‬ बसाते रहे;
वो भी पल पल हमें
‪आजमाते‬ रहे;
जब ‎मोहब्बत‬ में मरने
का ‎वक्त‬ आया;
हम ‪मर‬ गए और वो
‪मुस्कुराते‬ रहे।