भारत को मिली अत्याधुनिक सुपरसोनिक मिसाइल, DRDO ने किया सफल परिक्षण

नई दिल्ली: भारत ने आज मंगलवार को इंडियन नेवी के INS विशाखापत्तनम युद्धपोत से ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का सफल परीक्षण किया है। DRDO के अधिकारी ने बताया है कि, 'ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल के अपग्रेड समुद्र से समुद्री संस्करण का आज INS विशाखापत्तनम से सफल परीक्षण किया गया। मिसाइल ने निर्धारित लक्ष्य जहाज को सटीकता से भेद दिया।'

बता दें कि ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल को DRDO ने तैयार किया है। इस मिसाइल की रेंज हाल ही में 298 किमी से बढ़ाते हुए 450 किमी कर दी गई थी। कम दूरी की ये रैमजेट, सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल दुनिया में अपनी श्रेणी में सबसे तेज रफ़्तार वाली मिसाइल है। इसे पनडुब्बी, पानी के जहाज, विमान से या जमीन से भी लॉन्च किया जा सकता है। यह रूस की पी-800 ओंकिस क्रूज मिसाइल की टेक्नोलॉजी पर आधारित है। यह मिसाइल भारतीय सेना, वायुसेना और नौसेना को दी जा चुकी है। 

बता दें कि ब्रह्मोस मिसाइल मैक 3.5 यानी 4,300 किलोमीटर प्रतिघंटा की अधिकतम रफ्तार से उड़ने सक्षम है। यह मिसाइल पूरी तरह देश में ही विकसित दी गई है। ब्रह्मोस एक ऐसी सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल है, जिसकी गिनती 21वीं सदी की सबसे घातक मिसाइलों में की जाती है।  वहीं, दुश्मन इस मिसाइल के राडार को भी पकड़ नहीं सकते हैं। 

'साहब मेरी पत्नी बीड़ी पीती है, तलाक करा दो..', SSP ऑफिस पहुंचकर बोला पति

'भारत में भांग पर पूर्ण प्रतिबंध नहीं..', दिल्ली हाई कोर्ट में बोली केंद्र सरकार

राहुल द्रविड़ के नाम दर्ज है वो 'अनचाहा' रिकॉर्ड, जो कोई भी बल्लेबाज़ नहीं बनाना चाहेगा

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -