गर्भावस्था में न करे लेमनग्रास का सेवन

गर्भावस्था में न करे लेमनग्रास का सेवन

लेमन ग्रास का  प्रयोग खाने पकाने और स्वाद बढ़ाने वाले मसाले के रूप में करने के साथ सदियों से औषधीय रूप में भी किया जा रहा है. लेकिन कहते हैं न कि हर चीज के फायदों के साथ-साथ कई नुकसान भी होते हैं ऐसा ही लेमनग्रास के साथ भी है. आइए जानें लेमनग्रास किस तरह से नुकसानदायक हो सकती है.

1-लेमनग्रास की लंबी अवधि के कोई हानिकारक साइड इफेक्ट नहीं है लेकिन इसे कम मात्रा में इस्तेमाल करने की सिफारिश की जाती है और गर्भवती और स्तनपान करवाने वाली महिलाओं को इसका उपयोग नहीं करना चाहिए. लेमनग्रास के सेवन से माहवारी शुरू हो जाती है, इससे मिसकैरेज का डर बना रहता है.

2-कुछ लोगों को लेमनग्रास लेने के बाद फूड एलर्जी जैसे लक्षणों का अनुभव होता है. लेमनग्रास की चपेट में आने वाले लोगों को सीने में दर्द, चकत्ते, गले में सूजन, त्वचा पर पित्ती, त्वचा पर खुजली और सांस लेने में कठिनाई जैसे लक्षणों का अनुभव होता है. हालांकि यह प्रभाव असामान्य है.

3-डायबिटीज या ह्य्पोग्ल्य्समिक से ग्रस्त लोगों को लेमनग्रास तेल लगाने से बचना चाहिए क्योंकि यह तेल आपके रक्त शर्करा के स्तर को कम कर सकता है और डायबिटीज और उच्च रक्तचाप की दवा लेने वाले लोगों को तो इसके इस्तेमाल से पहले से ही मनाही है. इसके अलावा लीवर और किडनी की बीमारियों से ग्रस्त लोगों को लेमनग्रास के तेल का इस्तेमाल करने से पहले चिकित्सक से परामर्श करना चाहिए.