असफलता से डरे नहीं, उसका स्वागत करे

असफलता एक सामान्य प्रक्रिया है और यदि असफलताओं को सकारात्मक नजरिए से देखा जाए तो ये बेहद रचनात्मक साबित हो सकती है. यदि आप भी असफलताओं के दौर से गुजर रहे हैं तो ये कुछ कारगर उपाय अपना सकते हैं:

असफलता का स्वागत करें:

कहते हैं हर बाधा के पार एक अवसर इंतजार करता है. बस आप उम्मीद का दामन थामे रहिए। असफलता के कड़वे घूंट में सृजन के तत्व समाए रहते हैं. इसलिए बहुत बार असफलता किसी महत्वपूर्ण रचनात्मक कार्य की शुरुआत बन भाग्योदय की वजह बन जाती है. यदि आप असफलताओं के दौर में हैं तो धैर्यपूर्वक अपना उत्साह पूर्ववत कायम रखें.

सोचें कुछ हटकर:

हम अपनी छोटी-सी जिंदगी में ढेरों सपने संजोए रहते हैं. असफलता का दौर हमें अपने जीवन के लक्ष्यों से इतर सोचने का मौका देता है. इसलिए यह समय काफी अनुकूल साबित हो सकता है. इस समय किसी नई तकनीक या कला का प्रशिक्षण लिया जा सकता है. ऐसी कोशिशें न केवल नकारात्मकता के भाव को कुछ कम कर सकती हैं, बल्कि कुछ नया करने का एहसास उक्त समय की पीड़ा पर मरहम का काम करेगा और दिलो-दिमाग को एक नए रोमांच एवं अनुभूतियों से भर देगा.

करें अच्छे वक्त का इंतजार:

एक प्रसिद्ध लेखक कहते हैं महान लोग वे भी हैं, जो इंतजार करते हैं. समय की ताकत का भरोसा कीजिए, क्योंकि बड़ी से बड़ी निराशा घोर मानसिक पीड़ा या भारी असफलाओं से उपजा दुख भी वक्त बीतने पर भर जाता है. वक्त हमेशा एक-सा नहीं रहता। बुरा वक्त यही दर्शाता है कि अब आपका अच्छा वक्त शुरू होने वाला है.

कहें किसी अपने से:

नाजुक दौर में अपनी दुख तकलीफें, किसी अपने के साथ बाँट लीजिए। इससे आप हल्का महसूस करेंगे. कहा जाता है कि कहने से दुख कुछ कम हो जाता है.

नई संभावनाएं तलाशें:

ऐसे दौर में आप हताश न हों, बल्कि स्वयं के लिए नई संभावनाएं तलाशें। एक रास्ता बंद होता है तो अनेक रास्ते खुल जाते हैं. याद रखें सबसे बड़ी हार स्वयं को हारा मान लेना है. अगर आपके मन में जुनून है तो उन्नाति का पथ बेहद विस्तृत एवं सीमाहीन होता है.

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -