अंग प्रत्यारोपण के मामले में है डोनर्स की कमी

नईदिल्ली। इन दिनों संसद में केवल बहस और हंगामे की ही बातें सामने आती रही हैं मगर संसद में मानव अंगों की कमी की बात सामने आते ही सभी सांसदों के सामने एक गंभीर समस्या प्रस्तुत हुई। दरअसल एक सांसद ने केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री जेपी नड्डा से प्रश्नकाल के दौरान सवाल किया। लोकसभा में उठाए जाने वाले इस सवाल पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री नड्डा ने कहा कि देश में 2 लाख लोगों को गुर्दे के प्रत्यारोपण, 30 हजार लोगों को जिगर और करीब 50 हजार लोगों को हृदय के प्रत्यारोपण की आवश्यकता है। 

हालांकि स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने यह भी कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मन की बात कार्यक्रम में लोगों से अंगदान की अपील कर चुके हैं। प्रधानमंत्री की अपील के बाद कई लोग अंगदान करने के लिए जुटे हैं। स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री जेपी नड्डा द्वारा लोकसभा में प्रश्नकाल के दौरान सामने आए सवालों के उत्तर दिए गए।

उन्होंने कहा कि पीडि़त लोग बहुत अधिक हैं। ऐसे लोग ज़्यादा मात्रा में हैं जिन्हें अंगदान की आवश्यकता है। दरअसल 2 लाख गुर्दों की अभी भी आवश्यकता जताई जा रही है। मगर इसके एवज में 6000 गुर्दे ही उपलब्ध हैं। यही बात 30 हजार जिगर की मांग को लेकर सामने आ रही है।   महज 1500 जिगर ही हैं जो मरीजों को उपलब्ध करवाए जा सकते हैं। 50 हजार दिलों की आवश्यकता के बदले में 15 हृदय ही उपलब्ध हैं। केंद्रीय मंत्री नड्डा ने कहा था कि इस तरह की जागरूकता फैलाने पर बल दिया जाना चाहिए। 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -