जानकी जयंती: आज इन 16 तरह के दान देकर पुण्य और वरदान के भागी बन सकते हैं आप

आज 10 मई 2022 मंगलवार को जानकी जयंती है, जिसे सीता नवमी भी कहते हैं। आप सभी को बता दें कि इस दिन माता सीता प्रकट हुई थी। अब हम आपको बताने जा रहे हैं आज किये जाने वाले 16 तरह के दान के बारे में। जी दरअसल कहा जाता है इन चीजों का दान करें तो बहुत पुण्य और वरदान मिलता है।

क्या कर सकते हैं दान- तुलादान या तुलापुरुष दान, हिरण्यगर्भ दान, ब्रह्माण्ड दान, कल्पवृक्ष दान, गोसहस्त्र दान, हिरण्यकामधेनु दान, हिरण्याश्व दान, हिरण्याश्वरथ दान, हेमहस्तिरथ दान, पंचलांगलक दान, धरा दान, विश्वचक्र दान, कल्पलता दान, सप्तसागर दान, रत्नधेनु दान तथा महाभूतघट दान ये दान सामान्य दान नहीं है, अपितु सर्वश्रेष्ठ दान हैं। हालांकि इन सभी दानों की जगह प्रतिकात्मक दान किए जाते हैं। जैसे अन्नदान, गोदान, वस्त्रदान, छातादान, पलंगदान, कंबलदान, विद्यादान, आदि।

गाय, स्वर्ण, चांदी, रत्न, विद्या, तिल, कन्या, हाथी, घोड़ा, शय्या, वस्त्र, भूमि, अन्न, दूध, छत्र तथा आवश्यक सामग्री सहित घर इन 16 वस्तुओं के दान को महादान कहते हैं। जी दरअसल ऐसी मान्यता है कि जो व्यक्ति इस दिन व्रत रखता है एवं राम-सीता का विधि-विधान से पूजन करता है, उसे 16 महान दानों का फल, पृथ्वी दान का फल तथा समस्त तीर्थों के दर्शन का फल मिल जाता है।

अग्रि पुराण में, घोड़े, हाथी, तिल, सेवक, सेविका, रथ, भूमि, भवन, वधू, कपिला गाय, स्वर्ण आदि को मिलाकर महादान कहा गया है। वहीं मत्स्यपुराण में कहा गया है कि भरत, महाराज पृथु, भक्त प्रह्लाद, अंबरीश, भार्गव, कतिनीर्य, वासुदेव, अर्जुन, राम आदि ने भी अपने युग में ये महादान किए थे।

नृसिंह जयंती: इस तरह करेंगे अनुष्ठान तो मिलेगा 1000 यज्ञों के बराबर का फल

इस वजह से केदारनाथ यात्रा के बिना पूरी नहीं होती बद्रीनाथ धाम की यात्रा

सीता नवमी के दिन पढ़े जानकी स्तोत्र, मिलगा सुख-सौभाग्य

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -