क्या जानवरों को भी हीट स्ट्रोक से खतरा है, उनकी जान कैसे बचाई जा सकती है?

क्या जानवरों को भी हीट स्ट्रोक से खतरा है, उनकी जान कैसे बचाई जा सकती है?
Share:

इस समय उत्तर भारत में भीषण गर्मी पड़ रही है। इस भीषण गर्मी में न केवल इंसानों बल्कि जानवरों को भी हीट स्ट्रोक का खतरा है। जानवरों को भीषण गर्मी से बचाने के लिए कई तरह के उपाय किए जा रहे हैं, जिनमें पीने और नहाने के लिए विशेष पानी की व्यवस्था करना भी शामिल है।

पशुओं में हीट स्ट्रोक को रोकने के लिए विशेष समाधान

जानवरों को हीट स्ट्रोक से बचाने के लिए सबसे पहला कदम उन्हें सीधी धूप से बचाना है। जानवरों को सुबह या शाम ठंडे पानी से नहलाना उचित है। पालतू जानवरों के लिए, 10 ग्राम जीरा और 50 ग्राम पिसी चीनी को पानी में मिलाकर बनाया गया एक खास घोल देने की सलाह दी जाती है। यह घोल जानवरों को सुबह, दोपहर और शाम को दिया जाना चाहिए ताकि हीट स्ट्रोक से बचा जा सके। अगर किसी जानवर में हीट स्ट्रोक के गंभीर लक्षण दिखाई देते हैं, तो उसे तुरंत नजदीकी अस्पताल ले जाना और पशु चिकित्सक की सलाह लेना ज़रूरी है।

पशुओं का सामान्य शारीरिक तापमान

विभिन्न पालतू जानवरों के शरीर का तापमान अलग-अलग होता है। गर्मियों के दौरान, भैंस का तापमान 102°F तक पहुँच सकता है, जबकि बकरी का तापमान 104°F, गाय का 101°F, कुत्ते का 100.5°F, बिल्ली का 102.5°F, सुअर का 103°F और खरगोश का 104°F हो सकता है। अगर गर्मी के दौरान किसी जानवर के शरीर का तापमान बहुत ज़्यादा बढ़ जाता है, तो तुरंत पशु चिकित्सक से परामर्श करना ज़रूरी है।

पशुओं को हीट स्ट्रोक से बचाने के उपाय

गायों और भैंसों को गर्मी से बचाने के लिए उन्हें ठंडी जगहों पर रखने की सलाह दी जाती है, जैसे कि नीम के पेड़ के नीचे, जहाँ वे छाया का आनंद ले सकें। उन्हें ऊंचे टिन शेड के नीचे रखना जोखिम भरा हो सकता है क्योंकि तापमान बढ़ सकता है। निर्जलीकरण को रोकने के लिए, जानवरों को भरपूर पानी दिया जाना चाहिए, यह सुनिश्चित करते हुए कि यह गर्म न हो बल्कि सामान्य तापमान पर हो। ग्रामीण क्षेत्रों में, जहाँ जल निकाय उपलब्ध हैं, भैंसों को नहलाने से उन्हें अपने शरीर के तापमान को नियंत्रित करने में मदद मिल सकती है।

हीट स्ट्रोक से बचने के लिए शेड में कूलर और पंखों का उपयोग करें

हीट स्ट्रोक के जोखिम को कम करने के लिए भैंसों को दिन में 2-3 बार नहलाना चाहिए। इससे गर्मी के प्रभाव को काफी हद तक कम किया जा सकता है। पशुओं को रखने वाले शेड के आसपास पेड़ और झाड़ियाँ लगाने से ठंडी हवा मिल सकती है। शेड के अंदर उपयुक्त तापमान बनाए रखने के लिए, इसके चारों ओर घास बिछाना उचित है। इसके अतिरिक्त, शेड के अंदर पंखे और कूलर का उपयोग करने से पशुओं के लिए वातावरण को आरामदायक बनाए रखने में मदद मिल सकती है।

पिता ने नहीं दिया प्रॉपर्टी में हिस्सा तो बेटे ने किया ऐसा काम, देखकर लोगों के उड़े होश

इंटरनेट पर छाया Dolly चाय वाले का ये अनोखा VIDEO

'किसी ने उतारे कपड़े, तो कोई गिर गया नीचे', फ्लाइट में दिखा ऐसा मंजर, वीडियो देखकर उड़ जाएंगे होश

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -