क्या आपके भी बार-बार फटते हैं होंठ तो हो जाएं सावधान, ये हो सकती है वजह

क्या आपके भी बार-बार फटते हैं होंठ तो हो जाएं सावधान, ये हो सकती है वजह
Share:

होंठ हमारे शरीर के सबसे नाजुक अंगों में से एक माने जाते हैं। ये हमारे चेहरे की खूबसूरती को बढ़ाते हैं। हालांकि, बहुत ध्यान देने के बावजूद, कई लोग अक्सर होंठ फटने की शिकायत करते हैं। गर्मी या निर्जलीकरण के कारण कभी-कभी होंठ फटना आम बात है, लेकिन लगातार होने वाली समस्याएँ अंतर्निहित स्वास्थ्य संबंधी चिंताओं का संकेत हो सकती हैं। स्वास्थ्य विशेषज्ञों का सुझाव है कि बार-बार होंठ फटना कई तरह की कमियों और बीमारियों का संकेत हो सकता है।

होंठ फटने का एक महत्वपूर्ण कारण विटामिन बी और बी12 की कमी है। ये विटामिन होंठों सहित त्वचा के स्वास्थ्य को बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इनमें से किसी की भी कमी से होंठ सूख सकते हैं और फट सकते हैं, भले ही पर्याप्त मात्रा में पानी पीने के बाद भी होंठ फटें। इसलिए, इन विटामिनों से भरपूर खाद्य पदार्थों को अपने आहार में शामिल करना उचित है, जैसे बीन्स, मूंगफली, अंडे, दूध, मछली और डेयरी उत्पाद।

इसके अलावा, जिंक और आयरन की कमी भी होंठों के फटने में योगदान दे सकती है। उदाहरण के लिए, जिंक की कमी से होंठों सहित त्वचा की अखंडता ख़राब हो सकती है। जिंक की कमी को दूर करने के लिए अंडे, दूध, दही, पनीर, मूंगफली और साबुत अनाज जैसे खाद्य पदार्थ फायदेमंद होते हैं। दूसरी ओर, आयरन की कमी न केवल रक्त के स्तर को प्रभावित करती है, बल्कि त्वचा के स्वास्थ्य को भी प्रभावित करती है, जिससे संभावित रूप से होंठ फटने लगते हैं। अपने आहार में पालक, सूखे मेवे, ब्रोकली और शकरकंद जैसे आयरन युक्त खाद्य पदार्थों को शामिल करने से इस समस्या को कम करने में मदद मिल सकती है।

इसके अलावा, थायरॉयड विकार, एलर्जी या ऑटोइम्यून स्थितियां भी होंठ फटने की समस्या का कारण बन सकती हैं। उचित चिकित्सा मूल्यांकन और उपचार के माध्यम से इन अंतर्निहित स्वास्थ्य समस्याओं का समाधान करना महत्वपूर्ण है।

निष्कर्ष के तौर पर, जबकि फटे होंठ आमतौर पर मौसम और हाइड्रेशन जैसे बाहरी कारकों के कारण होते हैं, लगातार समस्याएँ गहरी पोषण संबंधी कमियों या स्वास्थ्य स्थितियों का संकेत हो सकती हैं। विटामिन बी, बी12, जिंक और आयरन से भरपूर संतुलित आहार होंठों के स्वास्थ्य में काफी सुधार कर सकता है। हालांकि, अगर आहार समायोजन के बावजूद होंठ फटना जारी रहता है, तो किसी भी अंतर्निहित चिकित्सा समस्या से बचने के लिए स्वास्थ्य सेवा पेशेवर से परामर्श करना उचित है।

क्या आप भी भूल जाते हैं रोजाना की छोटी-छोटी बातें? तो जान लीजिये एक्सपर्ट्स की राय

सिर्फ जामुन ही नहीं बल्कि इसकी पत्तियां भी हैं फायदेमंद, सेहत के लिए मिलेंगे ये फायदे

आज ही अपना लें ये 3 आदतें, बुढ़ापे में भी रहेंगे तंदरुस्त

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -