बार–बार होता है बर्फ खाने का मन? तो हो सकती है ये बड़ी वजह

बार–बार होता है बर्फ खाने का मन? तो हो सकती है ये बड़ी वजह
Share:

बर्फ की तलब, जिसे पाइका डिसऑर्डर के नाम से जाना जाता है, खास तौर पर गर्मियों के दौरान, चिलचिलाती गर्मी से कुछ समय के लिए राहत देती है। लोग अक्सर जल्दी ठंडा होने के लिए बर्फ के टुकड़े चबाते हैं, कोल्ड ड्रिंक या आइसक्रीम पीते हैं। हालांकि कभी-कभार बर्फ खाने की तलब हानिरहित लग सकती है, लेकिन बार-बार बर्फ खाने की तलब स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का संकेत हो सकती है। पाइका डिसऑर्डर में बर्फ, मिट्टी या मिट्टी जैसे गैर-खाद्य पदार्थ खाने की तीव्र इच्छा होती है। यह आमतौर पर बच्चों और गर्भवती महिलाओं में देखा जाता है, लेकिन यह किसी भी उम्र के व्यक्ति को प्रभावित कर सकता है। 

विशेषज्ञों का सुझाव है कि आयरन की कमी इन तलबों को ट्रिगर करने वाला एक महत्वपूर्ण कारक हो सकता है। इसके अलावा, मनोवैज्ञानिक तनाव या अवसाद भी इस खाने के विकार के विकास में योगदान दे सकता है। गर्भावस्था या मासिक धर्म के दौरान निर्जलीकरण और हार्मोनल परिवर्तन अतिरिक्त कारक हैं जो इस तरह की तलब को जन्म दे सकते हैं। बर्फ का अत्यधिक सेवन स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकता है। अंतर्निहित कारणों, जैसे कि आयरन की कमी को अनदेखा करना, स्थिति को और खराब कर सकता है। 

इन तलबों के पीछे के कारणों को समझना और यदि आवश्यक हो तो डॉक्टर से सलाह लेना महत्वपूर्ण है। दांतों की दृष्टि से, बार-बार बर्फ का सेवन दांतों के इनेमल को नुकसान पहुंचा सकता है, जिससे दांतों की समस्याएं हो सकती हैं। इसके अलावा, यह संक्रमण या कब्ज जैसी गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्याओं में भी योगदान दे सकता है।

अंत में, जबकि कभी-कभी बर्फ खाने से गर्मी से अस्थायी राहत मिल सकती है, लगातार होने वाली लालसा को नज़रअंदाज़ नहीं किया जाना चाहिए। पाइका विकार को प्रभावी ढंग से प्रबंधित करने और उसका इलाज करने के लिए अंतर्निहित कारणों को समझना और उचित चिकित्सा मार्गदर्शन प्राप्त करना आवश्यक है।

टैटू बनवाने के इतने समय तक नहीं करें ब्लड डोनेट, वरना बढ़ जाएगा खतरा

काले और घने बाल पाने के लिए करें इन खास बीजों का इस्तेमाल, इसके फायदे कर देंगे आपको हैरान

नेशनल हेल्थ क्लेम एक्सचेंज क्या है, कैसे काम करेगा, आम जनता को क्या फायदा है?

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -