इंजन के सीसी और हार्सपावर में कहीं आप भी तो नहीं हो जाते है कन्फ्यूज

हर प्रकार के वाहन के लिए उसका इंजन सबसे महत्वपूर्ण भाग कहा जाता है. कोई भी कार या बाइक खरीदते वक़्त आपको शोरूम का एजेंट उसमें कितने सीसी का इंजन लगा है और वह कितना पॉवर जेनरेट करने का काम करता है, इन सबकी जानकारी देता है. लेकिन बहुत सारे लोगों को ये बातें समझ में नहीं आती और फिर उन्हें अपनी गाड़ी से इच्छा अनुसार परफॉर्मेंस न मिलने की शिकायत भी मिल रही है. आपके साथ ऐसी दिक्कत न हो इसके लिए आपको गाड़ी के इंजन के टेक्निकल टर्म्स को समझना बहुत आवश्यक है. तो चलिए जानते हैं किसी इंजन के लिए उसके सीसी और हॉर्सपावर का क्या अर्थ होता है.  

क्या CC होता है सीसी का मतलब?: इंजन के लिए CC का अर्थ होता है क्यूबिक सेंटीमीटर. इससे मुख्यतः इंजन के आकार और वजन का भी पता चला चुका है. इंजन के आकार का मतलब उसके फ्यूल और एयर की क्षमता से है. जिससे इंजन में लगे सिलेंडर काम करते हैं और वाहन आगे बढ़ने लगा है.  

कैसे मिलती है पॉवर?: किसी भी इंजन में जितने अधिक CC होंगे, वह उतना ही शक्तिशाली इंजन होने वाला है. CC इंजन में मौजुद सभी सिलेंडर का आयतन कहा जा रहा है. अधिकतर सामान्य दोपहिया वाहनों में 100cc से 650 CC तक के इंजन का इस्तेमाल होता है, जबकि कारों के लिए कम से कम 800cc के इंजन का प्रयोग भी किया जा रहा है. 1000cc के ऊपर के वाहनों के इंजन को लीटर में दर्शाया जा रहा है, जिसमें 1 लीटर का मतलब 1000 cc समझा जा रहा है. यानि अगर किसी कार में 3000cc का इंजन लगा है तो उसे 3 लीटर का इंजन  बोला जाने वाला है. 

क्या होता है हॉर्सपॉवर?: CC गाड़ी के इंजन का साइज बता रहा है, लेकिन हॉर्सपावर इंजन के शक्ति उत्पन्न करने की क्षमता को दर्शाता है. जैसे किसी गाड़ी में 1.5 लीटर यानि 1500cc का भी लगा हुआ है और वह 130 पीएस की पॉवर जेनरेट करने का काम करता है. इसका सीधा अर्थ यही है कि जो इंजन जितने अधिक हॉर्सपावर का होगा, वह उतना ही शक्तिशाली और अधिक स्पीड वाला होगा. हॉर्सपावर को सामान्यतः hp, bhp या PS में दर्शाया जा रहा है.

आपके लिए बेस्ट होगी ये 7 सीटर कार, जानिए क्या है इसकी खासियत

स्ट्रीटफाइटर मोटरसाइकिल के सेगमेंट जीत रहे लोगों का दिल

बाइक के दाम पर मिल रही ये शानदार कार

न्यूज ट्रैक वीडियो

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -