टैटू बनवाने के इतने समय तक नहीं करें ब्लड डोनेट, वरना बढ़ जाएगा खतरा

टैटू बनवाने के इतने समय तक नहीं करें ब्लड डोनेट, वरना बढ़ जाएगा खतरा
Share:

हाल के दिनों में, युवाओं में अपने शरीर के विभिन्न हिस्सों जैसे हाथ, पैर, पीठ और गर्दन पर टैटू बनवाने का क्रेज बढ़ रहा है। जबकि यह चलन व्यक्तियों को कलात्मक रूप से खुद को अभिव्यक्त करने की अनुमति देता है, लेकिन टैटू बनवाने के बाद रक्तदान के संबंध में महत्वपूर्ण स्वास्थ्य संबंधी विचार हैं।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अनुसार, व्यक्तियों को टैटू बनवाने के कम से कम छह महीने बाद तक रक्तदान नहीं करना चाहिए। संभावित जोखिमों के कारण यह एहतियात महत्वपूर्ण है। टैटू की सुई और स्याही रक्तप्रवाह में हेपेटाइटिस बी, हेपेटाइटिस सी और एचआईवी जैसे संक्रमण ला सकती है। ये संक्रमण गंभीर स्वास्थ्य जोखिम पैदा करते हैं और अगर ठीक से जांच न की जाए तो रक्तदान के माध्यम से फैल सकते हैं।

स्वास्थ्य विशेषज्ञ इस बात पर जोर देते हैं कि टैटू बनवाने के तुरंत बाद रक्तदान करने से इन संक्रमणों की संभावना बढ़ जाती है। इसलिए, WHO अनुशंसा करता है कि व्यक्ति टैटू बनवाने के छह महीने बाद तक प्रतीक्षा करें और रक्तदान करने से पहले यह सुनिश्चित करने के लिए रक्त परीक्षण करवाएं कि उनके सिस्टम में इन संक्रमणों का कोई निशान नहीं है। यह एहतियाती अवधि किसी भी संभावित संक्रमण को प्रकट होने और जांच के माध्यम से पता लगाने की अनुमति देती है, जिससे दानकर्ता और दान किए गए रक्त के प्राप्तकर्ता दोनों की सुरक्षा होती है।

टैटू बनाने की प्रक्रिया के दौरान, यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि संक्रमण के जोखिम को कम करने के लिए बाँझ सुइयों और ताजा स्याही का उपयोग किया जाए। इसके अतिरिक्त, प्रक्रिया के बाद टैटू वाली जगह की उचित देखभाल करना महत्वपूर्ण है, यह सुनिश्चित करना कि यह तैराकी या अत्यधिक पसीना जैसी गतिविधियों में शामिल होने से पहले पूरी तरह से ठीक हो जाए। इन दिशानिर्देशों का पालन करके और अनुशंसित प्रतीक्षा अवधि और स्वास्थ्य जांच के बारे में जागरूक होकर, व्यक्ति रक्तदान करने और सामुदायिक स्वास्थ्य पहलों में योगदान करने की अपनी क्षमता का जिम्मेदारी से प्रबंधन करते हुए सुरक्षित रूप से अपने टैटू अनुभव का आनंद ले सकते हैं। इन सावधानियों को अपनाने से न केवल व्यक्तिगत स्वास्थ्य की रक्षा होती है, बल्कि रक्त आधान प्रथाओं में सार्वजनिक सुरक्षा भी बनी रहती है।

रक्तदान करने से पहले रखें इन बातों का खास ख्याल

क्या आप भी Google पर ढूंढते हैं हर बीमारी का इलाज? तो हो जाए सावधान वरना भुगतना पड़ सकता है भारी परिणाम

शरीर में विटामिन बी 12 की अधिकता होने पर क्या करें? हेल्थ एक्सपर्ट ने बताया

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -