अमेरिका - चीन के बीच मैत्री संबंधों को लेकर अमेरिका में विवाद

Aug 28 2015 09:55 AM
अमेरिका - चीन के बीच मैत्री संबंधों को लेकर अमेरिका में विवाद

वाॅशिंगटन : अमेरिका में आगामी समय में चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के दौरे को अमेरिका के हित में बताया गया है दूसरी ओर अमेरिकी सरकार को इस संबंध में रिपब्लिकन पार्टी की आलोचनाओं का खामियाजा भुगतना पड़ रहा है। दरअसल अमेरिकी सरकार का कहना है कि अमेरिका और चीन के बीच मैत्री होना काफी अच्छा होगा। जबकि अमेरिकी सरकार की आलोचना करने वाले दलों का मानना है कि चीन मानव अधिकारों का उल्लंघन कर रहा है वहीं इसने अमेरिका की खुफिया जानकारियों में सेंध लगाई है।

ऐसे में चीन के साथ वार्ता कैसे की जा सकती है जबकि सरकार का मानना है कि यह अमेरिका के राष्ट्रीय हितों में है। मिली जानकारी के अनुसार हाल ही में अमेरिकी सरकार की ओर से यह कहा गया है कि राष्ट्रपति को लगता है कि चीन के साथ संबंध विश्वभर में अमेरिका के हितों को आगे ले जाने के लिए बेहद प्रभावशाली हैं।

उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति सर्दियों के पिछले मौसम में ही चीन गए थे और चीन के साथ जलवायु परिवर्तन को लेकर चर्चा की गई थी। इस दौरान अमेरिका ने चीन के साथ कई समझौते भी किए थे। चीन ने भी अमेरिका के राष्ट्रपति के साथ खड़े होकर सार्वजनिक तौर पर प्रतिबद्धता जताई थी मगर वे कार्बन उत्सर्जन को सीमित करने के लिए भी प्रयास कर रहे हैं।

अमेरिका इस संबंध में भी चीन से चर्चा करने जा रहा है। मामले में यह कहा गया है कि जलवायु परिवर्तन की नीति को प्राथमिकता देने ओर राष्ट्रपति के मुख्य आलोचक इस बात में संशय में थे कि क्या चीन इस तरह के लक्ष्य की दिशा में किसी तरह का कदम आगे बढ़ाएगा।

यही नहीं अमेरिकी पक्ष द्वारा यह भी देखा जा रहा है कि अमेरिका के लिए चीन के साथ संबंध आखिर कितने महत्वपूर्ण हैं। इस मामले में राष्ट्रपति चीनी समकक्ष के साथ पूर्ववर्ती बैठकों की तरह ही साईबर स्पेस में भी बातचीत करेंगे। इस दौरान वे अमेरिका की चिंता भी जाहिर करेंगे। 21 वीं सदी की अर्थव्यवस्था में राष्ट्रपति द्वारा कहा गया है कि अमेरिका इस बात को लेकर जागरूक बना हुआ है।