विवादों के बीच घिरी निर्देशक प्रशांत की ये फिल्म

विवादों के बीच घिरी निर्देशक प्रशांत की ये फिल्म

साउथ सिनेमा के जाने माने फिल्म निर्देशक प्रशांत को आज के समय में अकुन नहीं जानता है. वह हमेशा ही किसी न किसी बात के चलते चर्चाओं में बने रहते है. वहीं प्रशांत की पहली फिल्म थी 'आह!' प्रतिभाशाली निर्देशक प्रशांत वर्मा ने राष्ट्रीय पुरस्कार जीते है. वह वर्तमान में अपनी तीसरी फिल्म की शूटिंग में व्यस्त हैं. दर्शकों और आलोचकों द्वारा उनकी पहली दो फिल्मों के साथ समान रूप से प्रशंसित 'आह!' और 'कल्कि', वह अब वास्तविक जीवन की घटनाओं पर आधारित एक फिल्म बना रहे है. वहीं फिल्म ' ज़ोंबी रेड्डी 'एक अलग शीर्षक है. प्रशांत वर्मा ने हॉलीवुड निर्मित बैक-वॉटरिंग एनीमेशन के समान शैली में शीर्षक लोगो जारी किया. यह तेलुगु में पहली ज़ोंबी फिल्म है.

हाल ही में जारी शीर्षक और एनीमेशन को दर्शकों से जबरदस्त प्रतिक्रिया मिली. हालांकि, निर्देशक प्रशांत वर्मा ने खुद एक आधिकारिक नोट लिखा, जिसमें बताया गया कि टीम ने 'ज़ोंबी रेड्डी' शीर्षक को एक समुदाय के लिए जिम्मेदार ठहराया था. इसे एक ट्विटर प्लेटफॉर्म के रूप में साझा करते हुए उन्होंने कहा कि यह ऐसी फिल्म नहीं थी जो किसी भी समुदाय को गलत तरीके से पेश करेगी. "हाल ही में, हमारे मूवी शीर्षक को 'ज़ोंबी रेड्डी' के रूप में घोषित किया गया था. इसे एक अद्भुत प्रतिक्रिया मिली. यह ट्विटर पर राष्ट्रीय स्तर पर ट्रेंड कर रहा था. शीर्षक बहुत अच्छा था, बहुत सारे कॉल और संदेश थे. मीम भी थे. टीम की मेहनत के परिणाम से हम सभी खुश हैं, लेकिन कुछ लोगों ने शीर्षक को गलत समझ रहे है.

यह एक रोमांचक फिल्म है. कहानी कर्नूल की पृष्ठभूमि में होती है, जो कोरोना महमारी के चारों ओर घूमती है जो वर्तमान में लोगों की जान ले रही है. हम हॉलीवुड में इस प्रकार की महामारी की कई फिल्में देखते हैं. कहानी न्यूयॉर्क जैसी पृष्ठभूमि में होती है. मैंने कर्नूल को एक पृष्ठभूमि के रूप में चुना. मुख्य बिंदु यह है कि अगर कर्नूल में ऐसा नरसंहार होता है, तो वहां के लोग कैसे लड़ेंगे, इस नरसंहार को रोकेंगे और पूरी दुनिया को बचाएंगे. फिल्म में कर्नूल की कहानी पर प्रकाश डाला गया है. कृपया शीर्षक को गलत न समझें. निश्चित रूप से इस फिल्म में कोई जाति भेद नहीं दिखाया जा रहा है.  ”प्रशांत वर्मा ने कहा अगर मेरी पहली फिल्म 'आह!' कोराष्ट्रीय पहचान मिलती है, मेरा मानना ​​है कि इस फिल्म को अंतरराष्ट्रीय पहचान मिलेगी. हर कोई गर्व से फेल हो जाएगा,.

नागार्जुन के इस लुक को देखकर लोग हुए हैरान

जूनियर NTR की बायोपिक को लेकर भिड़े दो फिल्म निर्माता

सुरेश बाबू ने किया बेटे की कार एक्सीडेंट वाली अफवाहों का खुलासा