राज्यसभा में इस हॉकी खिलाड़ी को भारत रत्न देने की उठी मांग

भारतीय हाकी टीम के पूर्व कप्तान दिलीप टिर्की ने राज्यसभा में हाकी के जादूगर के नाम से विख्यात मेजर ध्यानचंद को भारत रत्न देने की मांग की है. राज्यसभा में बीजू जनता दल के नेता टिर्की ने बुधवार को पूरक प्रश्न पूछते हुए कहा कि क्रिकेट और निशानेबाजी में विश्वकप जीतने पर खिलाडियों को राजीव गांधी खेल रत्न और अन्य पुरस्कारों से सम्मानित किया जाता है लेकिन कबड्डी जैसे देश के अपने खेलों में विश्व कप जीतने पर भी खिलाड़ियों को पुरस्कार नहीं मिलते.

उन्होंने कहा कि महिला टीम ने कबड्डी का वर्ल्ड कप कई बार जीता है लेकिन उनके साथ भेदभाव हो रहा है. टिर्की ने कहा कि हाकी के जादूगर कहे जाने वाले मेजर ध्यानचंद को भारत रत्न देने की बात ने तूल पकड़ा था लेकिन उनके साथ भी संभवत भेदभाव हुआ और उन्हें यह पुरस्कार नहीं दिया गया. खेल और युवा मामलों के मंत्री सर्बानंद सोनोवाल की गैर मौजूदगी में गृह राज्य मंत्री किरण रिजिजू ने कहा कि सरकार भी मानती है कि कबड्डी जैसे खेलों को प्राथमिकता दी जानी चाहिए.

उन्होंने कहा कि क्रिकेट खिलाडी सचिन तेंदुलकर को भारत रत्न देने का फैसला पूर्ववर्ती सरकार ने लिया था और वह सदस्य की भावना का समर्थन करते हैं. एक अन्य सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि रियो ओलंपिक के लिए खिलाडियों और प्रशासनिक अधिकारियों के दल का चयन करने की एक प्रक्रिया है और इस तरह के निर्णय खेल महासंघ लेते हैं तथा सरकार इसमें हस्तक्षेप नहीं करती.

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -